मुलायम सिंह की इस बहू ने जीता है अपनी सास साधना का दिल, आप भी अपनाये ये तरकीब

मदर्स डे के मौके पर मुलायम की इस बहू ने अपनी बेटी, अखि‍लेश यादव, और फैमिली के कई राज खोले हैं।

मुलायम सिंह की इस बहू ने जीता है अपनी सास साधना का दिल, आप भी अपनाये ये तरकीब

प्रथमा को स्कूल छोड़ने और लेने जाने के साथ-साथ अपर्णा दिनभर अपनी बेटी की केयर एंड टेकिंग में लगी रहती है। अपर्णा का मानना है कि यह मेमोरेबल टाइम होता है जिसे मां-बाप और बच्चे उम्रभर याद रखते हैं। ये यादें हमेशा बच्चों के पास होती हैं। अपर्णा के बेटी प्रथमा अभी बेहद चंचल है।स्कूल से आने के बाद 30 मिनट तक वो कार्टून देखती है और ज्यादा समय मां के साथ बिताती है।

ये भी पढ़े: मुलायम सिंह बोले: अखिलेश को सीएम बनाना मेरी जिंदगी की सबसे बड़ी भूल थी

अखिलेश यादव अपर्णा की बेटी को लल्ली बुलाते हैं, जिससे वो चिढ़ जाती है। जबकि डिंपल भाभी उसे रात की रानी बुलाती हैं। दरअसल, इसके पीछे की कहानी ये है कि पहले अखिलेश और डिंपल अपर्णा के साथ ही घर में बगल के कमरे में रहते थे। रात में प्रथमा रोने-चिल्लाने लगती थी। इसके बाद से ही डिंपल ने प्रथमा को ‘रात की रानी’ कहना शुरू कर दिया।

चुनाव के समय अपर्णा ने अकेलापन महसूस किया। इस बारें में उनका कहना है कि उन्हें अपने लोगों से इतना सपोर्ट नहीं मिला, जितना मैं डिजर्व करती हूं। प्रथमा ने मुझे बहुत सपोर्ट किया। प्रतीक भी ख्याल रखते थे उसका और मेरी मां भी।

अपर्णा खुद विदेश जाकर पढ़ाई करना चाहती थी। जिसके लिए उन्हें स्कॉलरशिप भी मिली थी। उनके पिता उन्हें भेजना तो चाहते थे, लेकिन फैमिली प्रेशर बहुत था। लोगों ने कहा विदेश भेजने की क्या जरूरत है, इंडिया में भी अच्छे कॉलेज हैं। बाद में अपर्णा की मां के कहने पर उनके पापा ने उन्हें विदेश भेजा।

जब से मैं घर में आई हू, तब से हर मदर्स-डे पर उन्हें फ्लावर्स गिफ्ट करती हूं। सब लोग साथ होते हैं। पहली बार में वो काफी इमोशनल हो गई थीं। अखिलेश भइया और प्रतीक ने पहले कभी नहीं मनाया।

 

You may also like

कानपुर के विवादित शेल्टर होम सुभाष चिल्ड्रेन से 3 बच्चे हुए लापता, जिला प्रशासन हैरान

कानपुर की विवादित एनजीओ सुभाष चिल्ड्रेन शेल्टर होम