घर से भागे व भटके हुए 30 बच्चे,मुंबई से लाए गए

child_1463690889फैजाबाद का 12 वर्षीय मनोहर (परिवर्तित नाम) काफी गरीब परिवार से है। उसके पिता बेहद हिंसक हैं। वह घर से भागना चाहता था और डेढ़ साल पहले उसने ऐसा ही कर दिया। वह लखनऊ आया और यहां से मुंबई जा रही ट्रेन में चढ़ गया।
वह बताता है कि वह गाना गा लेता है इसलिए वह फिल्मों में काम करना चाहता था। उम्मीद थी कि उसे फिल्मों में ले लेंगे। ट्रेन के कोच को साफ करता तो लोग कुछ पैसा या खाने को दे देते। इन्हीं मुश्किलों को झेलता हुआ किसी तरह मुंबई पहुंचा और यहां की भीड़ में खो गया।

बकौल मनोहर वह माटुंगा के पास एक चाय नाश्ते की दुकान में कप-प्लेट धोकर किसी तरह जीवन यापन किया। वहां मालिक बहुत मारता था, तो दूसरी जगह काम करने लगा। इस बीच एक एनजीओ ने उसे देखा और माटुंगा के ही बाल गृह में पहुंचा दिया। वहां वह पिछले चार महीने से रह रहा था।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button