मार्क जुकरबर्ग और बिल गेट्स से लेकर ये अरबपति है कॉलेज ड्रॉपआउट

- in करियर

अगर एग्जाम में अच्छे मार्क्स नहीं आए तो सब सोच कर बैठ जाते है कि बच्चा नालायक है. वह कितना काबिल है ये बात उसके अच्छे मार्क्स ही तय करते है. क्या ये सही है? हम ये नहीं कह रहे है कि एग्जाम के मार्क्स जरूरी नहीं है पर स्कूल-कॉलेज में आए मार्क्स पर आपका पूरा भविष्य निर्भर नहीं है. 12वीं का रिजल्ट जल्द ही आने वाला है. हम उन स्टूडेंट्स को बताना चाहते है कि सिर्फ अच्छे मार्क्स में नहीं बल्कि आपके जुनून में छिपी है आपकी कामयाबी.. जानते हैं उन लोगों के बारे में जिन्होंने साबित किया है मार्क्स से आगे है आपकी कामयाबी.  

बिल गेट्सTheory of Relativity के सबसे प्रतिभावान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन को बचपन में मंद बुद्धि का बालक समझा जाता था. महज 15 साल की उम्र में ही स्‍कूल जाना छोड़ दिया था. स्कूल में हमेशा कम अंक प्राप्त करने वाला यह बालक सात वर्ष की उम्र तक पढ़ भी नही पाता था. लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि वह आगे चलकर फिजिक्स में नोबेल प्राइस मिलेगा.  

आज जिस कंप्‍यूटर के बिना कोई भी काम पॉसिबल नहीं है. उसे बनाने वाले बिल गेट्स होनहार स्टूडेंट की लिस्ट में शामिल नहीं थे. अपनी स्कूल शिक्षा प्राप्त कर उन्होंने कॉलेज का मुंह तक नहीं देखा. लेकिन आज विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति में बिल गेट्स का नाम सबसे पहले शुमार किया जाता है.  

एप्पल का नाम तो सुना होगा. आज हर कोई अपने हाथ में एप्पल का फोन चाहता हैं. इसे बनाने वाले स्टीव जॉब्स ने कॉलजे की पढ़ाई को अधुरा छोड़ दिया था . और आज देखो काबिलियत के दम पर उन्‍होंने आईफोन, आईपॉड और मैकबुक जैसी मशहूर मशीनें बनाने में अपना महत्‍वपूर्ण योगदान दिया.  

जानकर हैरानी होगी जिसने देश को क्रिकेट में पहला वर्ल्डकप दिलाया. पढ़ाई में अच्छे ना होने के वजह से शुरू से ही उनका मन क्रिकेट की ओर था. इसलिए उन्होंने स्कूली पढ़ाई को बीच में छोड़ दिया. लेकिन जब-जब वर्ल्ड कप का जिक्र होगा कपिल देव का नाम सदा याद किया जाएगा.  

जहां आज सारी दुनिया पर फेसबुक का क्रेज सवार है. उसके मालिक मार्क जुकरबर्ग पढ़ाई में इतने अच्छे नहीं थे. लेकिन एक लड़की को खोजने के लिए उन्होंने सोशल नेटवर्किग साइट बनाई. जिसे दुनिया फेसबुक के नाम से जानती है.  पढाई और फेसबुक का साथ चलाना मुश्किल था जिस वजह से उन्होंने कॉलेज छोड़ दिय.   

आज जिसकी वजह से युवाओं को फ्री डाटा मिल रहा है उसी रिलायंस इंडस्ट्री के मालिक मुकेश अंबानी ने stanford university में MBA में एडमिशन लिया लेकिन एक साल के बाद पढ़ाई छोड़ दी. आज वह भारत के सबसे अमीर इंसान है.  

क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर के नाम आज ऐसे-ऐसे रिकॉर्ड है जिन्हें तो़ड़ पाना बेहद मु्श्किल है. आप जानकर हैरान हो जाएंगे वह 10वीं से आगे नहीं पढ़ पाए थे.

जहां मार्क्स बोलना बंद कर दें, वहां हुनर बोलता है.बिना बोले लोगों को हंसा-हंसा कर लोटपोट कर देने वाले चार्ली चैपलिन ने महज 13 साल की उम्र में स्कूल को गुडबॉय बोल दिया था.  

 

 

 

 

 

You may also like

#बड़ी खुशखबरी: 50000 रु वेतन के साथ केरल में प्रोफ़ेसर पदों पर पाए नौकरी

केरल विश्वविद्यालय मत्स्य पालन और महासागर अध्ययन द्वारा