महाराष्ट्र के मंत्री बोले- महाराजा’ की जगह ‘महारानी’ होना चाहियें शराब की बोतलों का नाम

महाराष्ट्र के मेडिकल एजुकेशन मिनिस्टर गिरिश महाजन महिला कार्यकर्ताओं और विपक्षी पार्टियों के निशाने पर हैं। महिलाओं के लिए विवादित बयान देने के बाद सुर्खियों में आए फडणवीस सरकार के मंत्री महाजन ने अपने बयान पर माफी मांगी है। हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक महाजन ने कहा कि 25 सालों के राजनीतिक करियर में उन्होंने पहली बार ऐसा बयान दिया है और वे इसे गलती भी मान रहे हैं।
महाराष्ट्र के मेडिकल एजुकेशन मिनिस्टर गिरिश महाजन महिला कार्यकर्ताओं और विपक्षी पार्टियों के निशाने पर हैं। महिलाओं के लिए विवादित बयान देने के बाद सुर्खियों में आए फडणवीस सरकार के मंत्री महाजन ने अपने बयान पर माफी मांगी है। हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक महाजन ने कहा कि 25 सालों के राजनीतिक करियर में उन्होंने पहली बार ऐसा बयान दिया है और वे इसे गलती भी मान रहे हैं। महाजन ने आगे कहा कि गलती जानबूझकर नहीं की गई है और वे जल्द ही इसके लिए माफीनामा भी जारी करेंगे।  दरअसल, महाजन एक सुगर फैक्टरी के उद्घाटन समारोह में पहुंचे, जहां उन्होंने कंपनी को सलाद दी कि उन्हें शराब की बोतल पर नाम 'महाराजा' की जगह 'महारानी' रखना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि कोल्हापुर और संघली में ब्रांड्स के नाम जूली, भिंगारी और बॉबी रखे हुए हैं और उनकी कंपनियां अच्छा बिजनेस कर रही हैं।  पढ़ें: महाराष्ट्र सरकार का फैसला, रेप और मर्डर के आरोपियों को परोल नहीं  उनके इस विवादित बयान के बाद एनजीओ कार्यकर्ता प्रोमिता गोस्वामी ने मुल पुलिस स्टेशन में महाजन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। गोस्वामी ने आईपीसी की धारा 504 और 509 के तहत महाजन के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।  वहीं एनसीपी की महिला विंग की कार्यकर्ताओं ने महाजन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। एक सामाजिक कार्यकर्ता का कहना है कि महिलाओं के प्रति नेताओं की इस तरह की सोच बेहद शर्मनाक है। बता दें कि महाजन पहले भी सुर्खियों में आ चुके हैं। इसस पहले दाऊद इब्राहिम के रिश्तेदार की शादी में शरीक हुए थे, जिसके बाद उनका काफी विरोध हुआ था। सम्बंधित खबरें :महाजन ने आगे कहा कि गलती जानबूझकर नहीं की गई है और वे जल्द ही इसके लिए माफीनामा भी जारी करेंगे।

दरअसल, महाजन एक सुगर फैक्टरी के उद्घाटन समारोह में पहुंचे, जहां उन्होंने कंपनी को सलाद दी कि उन्हें शराब की बोतल पर नाम ‘महाराजा’ की जगह ‘महारानी’ रखना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि कोल्हापुर और संघली में ब्रांड्स के नाम जूली, भिंगारी और बॉबी रखे हुए हैं और उनकी कंपनियां अच्छा बिजनेस कर रही हैं।

उनके इस विवादित बयान के बाद एनजीओ कार्यकर्ता प्रोमिता गोस्वामी ने मुल पुलिस स्टेशन में महाजन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। गोस्वामी ने आईपीसी की धारा 504 और 509 के तहत महाजन के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है।

वहीं एनसीपी की महिला विंग की कार्यकर्ताओं ने महाजन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। एक सामाजिक कार्यकर्ता का कहना है कि महिलाओं के प्रति नेताओं की इस तरह की सोच बेहद शर्मनाक है। बता दें कि महाजन पहले भी सुर्खियों में आ चुके हैं। इसस पहले दाऊद इब्राहिम के रिश्तेदार की शादी में शरीक हुए थे, जिसके बाद उनका काफी विरोध हुआ था।

सम्बंधित खबरें :

Facebook Comments

You may also like

गुजरात नगरपालिका के नतीजे इतनी सीटों से बीजेपी आगे, 27 पर कांग्रेस

गुजरात विधानसभा चुनाव के बाद अब नगर पालिका