मनोज तिवारी ने अपनी तेज पारी पर, वॉटसन की रणनीति को लेकर कह दी ये बड़ी बात

बेंगलुरु| रॉयल चैलेंजर्स बंगलौर के खिलाफ 19 गेंदों में 27 रनों की अहम पारी खेल राइजिंग पुणे सुपरजाएंट को 161 के चुनौतीपूर्ण स्कोर तक पहुंचाने वाले बल्लेबाज मनोज तिवारी ने कहा कि वह अंत में शेन वॉटसन का दिमाग पढ़ने की कोशिश कर रहे थे। तिवारी ने वॉटसन द्वार फेंके गए 19वें ओवर में तीन चौके और एक छक्के की मदद से 19 रन बटोरे थे, जो पुणे को 160 का आंकड़ा पार कराने में बेहद मददगार साबित हुए।

मनोज तिवारी

 तिवारी- वॉटसन का दिमाग पढ़ने की कर रहा था कोशिश

मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में तिवारी ने कहा, “मैं गेंदबाज के दिमाग में क्या चल रहा है, इसे पढ़ने की कोशिश कर रहा था। मैं देख रहा था कि शेन वॉटसन, धोनी के खिलाफ किस तरह की गेंदबाजी करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने जो फील्डिंग लगाई, उससे अलग गेंदबाजी की। इस तरह उन्होंने धोनी का विकेट भी लिया।” 

उन्होंने कहा, “उन्होंने जिस तरह की फील्डिंग लगाई थी, उसे देखकर मुझे पता था कि वह इसी तरह की गेंदबाजी मेरे खिलाफ करेंगे। जब एक बाउंसर वाइड हो गई तो मुझे पता था कि वह दोबारा यह गेंद नहीं डालेंगे। उन्होंने मेरे क्षेत्र में गेंदबाजी की। वह अपनी रणनीति में चूके और मैंने इसका फायदा उठाया।”

तिवारी की महत्वपूर्ण पारी उस समय आई जब पुणे ने कप्तान स्टीवन स्मिथ और धोनी के अहम विकेट खो दिए थे। तिवारी ने कहा, “यह बल्लेबाजों के लिए मुश्किल था। लेकिन मेरा मानना है कि अगर मैं ईमानदारी से कहूं तो वाटसन ने अपना दिमाग नहीं लगाया।”

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button