भारतीय टीम में जगह नहीं मिली तो विदेश की टीम में बन गया का कप्तान

- in खेल

मित्रों इस बात से तो आप सभी अवगत ही होगें कि इस खेल की दुनिया में कई ऐसे खिलाड़ी है जो अपने बेहतरीन खेल की लिये ही जाने जाते है पर इनमें कुछ ऐसे भी खिलाड़ी जिनको खेलने का अवसर ही नही मिल जिस वजह से वह खिलाड़ी आज भी गुमनामी की जिन्‍दगी जी रहे है पर एक ऐसा भी है जिसे इंडियन टीम में जगह नही मिली तो वह विदेश चला गया। पर आज कर रहा है कप्‍तानी नाम जानकर आप भी हैरानी में पड़ जायेगें।

आपको बता दें कि आज हम जिस खिलाड़ी की बात कर रहे है उसे टीम में जगह नही दी गई क्‍योंकि भारतीय क्रिकेट टीम में उन्हें ही अवसर दिया जाता है जो लगातार अपने शानदार फॉर्म में होते हैं, इसी वजह से कुछ क्रिकेटर्स ऐसे भी होते हैं जो भारतीय क्रिकेट टीम में जगह नहीं मिलने पर विदेशी टीमों का दामन थाम लेते हैं, हमने इससे पहले भी ऐसे कई भारतीय क्रिकेटर्स का जिक्र किया है, पर आज हम बात करेंगे एक ऐसे भारतीय क्रिकेटर के संबंध में जो भारत में क्रिकेट सीखने के पश्‍चात कनाडा चला गया और आज टीम की कप्तानी संभाल रहा है।

आपकी जानकारी के लिये बता दें कि आज हम जिस खिलाड़ी की बात कर रहे वो और कोई नही बल्कि उसका नाम आशीष बगई है अपनी जन्मभूमि को छोड़कर कनाडा जाने के पश्‍चात आशीष ने अपने धाकड़ बल्लेबाजी और शानदार विकेटकीपिंग का नजारा पेश किया जिसके बदौलत कनाडा क्रिकेट टीम ने उन्हें सन 2007 में टीम की कप्तानी दे दी, उन्होंने 2007 से 31 मई 2011 तक टीम की कमान संभाली उसके बाद उन्होंने कनाडा क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को पत्र लिखकर अपनी कप्तानी छोड़ दी, आशीष ने लिखा की मैं जिस खेल से प्यार करता हूं उस खेल का इस देश के लिए अगुवाई करना मेरे लिये सम्मान की बात है, मैं कनाडा क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के उन सभी लोगो का आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने मेरी सहायता की है। हालांकि आज भी वो कनाडा टीम में अपनी अहम भूमिका निभा रहे है। इस खिलाड़ी के संबंध में आप लोगों की क्‍या प्रतिक्रियायें है? कमेंट बॉक्‍स में अपनी महत्‍वपूर्ण रॉय अवश्‍य लिखें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

लखनऊ की निशा ने जीता महिला 5000 मीटर दौड़ का स्वर्ण

52वीं यूपी स्टेट जूनियर ( अंडर-20 पुरूष व