भाई को बचाने गई बहन के शरीर में ठोक दी कील

- in अपराध

बेगूसराय। बिहार के बेगूसराय जिले के छौड़ाही प्रखंड अंतर्गत छौड़ाही ओपी के ऐजनी गांव में अवैध कब्जा हटाने के लिए सीओ को आवेदन देना एक परिवार को महंगा पड़ गया। अतिक्रमणकारियों ने सुबह घर पर चढ़कर तोडफ़ोड़ की। चार लोगों को पीटकर घायल कर दिया और भाई को बचाने गई बहन के शरीर में कील ठोक दी। सभी का इलाज पीएचसी खोदावंदपुर में चल रहा है। एसडीएम मंझौल ने घायलों से मुलाकात की। लेकिन, पुलिस ने आरोपितों पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है।भाई को बचाने गई बहन के शरीर में ठोक दी कील

घटना के संबंध में गंभीर रूप से घायल ऐजनी निवासी शहनवाज बेगम ने बताया कि पड़ोसी मोहम्मद जाहिद के साथ जमीन के अवैध कब्जे को ले मेरे भाई का विवाद चल रहा है। हमारे पास जमीन के कागजात हैं। फिर भी वह कब्जा नहीं हटा रहे।

अंचल अधिकारी छौड़ाही को आवेदन देकर शिकायत की गई थी। अंचलाधिकारी ने नोटिस जारी कर सभी को अपना पक्ष रखने एवं अमीन से नापी करवा कर अंतिम फैसला देने की बात कह पांच जून को अंचल कार्यालय में बुलाया था, पर कोई फैसला नहीं हो सका। कहा, आज बुधवार की सुबह गांव के मोहम्मद अजमत पिता शौकत अली, मोहम्मद जाहिद, शाहिद, राजा सभी ग्राम ऐजनी स्थित घर पर आए और गाली-गलौज करने लगे।

भाई मोहम्मद इस्लाम ने जब विरोध किया तो अजमत के कहने पर सभी ने रॉड, लाठी, डंडा, हसुआ आदि से ताबड़तोड़ प्रहार कर भाई को अधमरा कर दिया। जब मां नाजिया खातून एवं भाभी नजमा उन्हें बचाने गए तो आरोपितों ने हमारे शरीर में कील ठोक दी। सिर पर लोहे के रॉड से प्रहार कर जख्मी कर दिया। आरोपितों ने मकान में भी जमकर तोडफ़ोड़ की एवं कई सामान उठा ले गए। बेरहमी से पिटाई के कारण सभी बेहोश हो गए। ग्रामीणों ने इलाज के लिए पीएचसी खोदावंदपुर पहुंचाया। जहां दो की स्थिति गंभीर बनी हुई है।

पीएचसी में इलाज के दौरान ही एसडीएम मंझौल ने घायलों का बयान लिया। उन्होंने थाने में आवेदन देने एवं मामले में सख्त कार्रवाई करने का भरोसा दिलाया। घटना के बाद गांव में तनाव बना हुआ है।  इस संबंध में छौड़ाही ओपी अध्यक्ष ङ्क्षसटू कुमार झा ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई प्रारंभ कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

छोटी सी बात पर प्रेमिका ने प्रेमी को मारा चाकू, वीडियो बनाते रहे लोग

आए दिन होने वाली अपराध की घणाए कम