बड़ी खबर: चाइना भेजी जा रही बिहार में पकड़ी गई एक करोड़ रूपये की छिपकली

- in अपराध, बिहार

आज हम आपको एक ऐसी खबर से रूबरू करवाने वाले है, जिसके बारे में जान कर आप वास्तव में हैरान रह जायेंगे. जी हां आपकी जानकारी के लिए बता दे कि ये खबर पटना बिहार से सामने आई है और इस खबर ने सब को चौंका दिया है. दरअसल आज जो खबर हम आपको बताने वाले है, वो किसी इंसान से नहीं बल्कि किसी जीव से संबंधित है. गौरतलब है कि सशक्त सीमा बल के जवानो यानि एसएसबी के जवानो ने बिहार के किशनगंज इलाके में एक दुर्लभ प्रजाति की छिपकली को पकड़ा है.

वैसे आप सोच रहे होंगे कि इसमें कौन सी बड़ी बात है. तो यहाँ हम आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जवानो ने जो छिपकली पकड़ी है, वो कोई ऐसी वैसी छिपकली नहीं है, बल्कि ये छिपकली उन्होंने अंतराष्ट्रीय तस्कर के तहत पकड़ी है और इस छिपकली को पकड़ने के बाद जवानो ने इस गिरोह का पर्दाफाश भी कर दिया है. बरहलाल जब से इलाके में इस गिरोह का पर्दाफाश हुआ है, तब से पूरे इलाके में सनसनी फैली हुई है. वैसे आपको जान कर ताज्जुब होगा कि ये छिपकली न केवल दुर्लभ प्रजाति की है, बल्कि इसके पाउडर में कई ऐसे गुण भी मौजूद है, जो कठिन से कठिन बीमारियों का खात्मा करते है.

वही अगर एसएसबी के जवानो की माने तो इस छिपकली के पाउडर का इस्तेमाल इंसानो में स्टेमिना पावर को बढ़ाने के लिए, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने के लिए और यहाँ तक कि शुगर की मात्रा को कम करने वाली दवा बनाने में भी किया जाता है. यानि इस छिपकली के पाउडर से एक नहीं बल्कि कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है. इसके इलावा आपको जान कर हैरानी होगी कि अंतराष्ट्रीय बाजार में इस छिपकली की कीमत एक करोड़ तक बताई जा रही है. ऐसे में आप खुद अंदाजा लगा सकते है कि ये छिपकली विदेशो लोगो के लिए कितनी ज्यादा कीमती होगी. जी हां क्यूकि अगर इस छिपकली में इतने सारे गुण मौजूद न होते तो इसकी कीमत कभी एक करोड़ नहीं होती.

अब जाहिर सी बात है कि ये छिपकली इतनी खास है, तभी तो इसकी कीमत इतनी ज्यादा है. अब भले ही आप इस बात पर यकीन करे या न करे, लेकिन सच तो यही है, कि ये छिपकली वास्तव में किसी व्यक्ति का जीवन बचा सकती है या यूँ कहे कि व्यक्ति को कई बीमारियों से राहत दिला सकती है. गौरतलब है कि ये छिपकली टोके प्रजाति की है, जिसका निर्यात खड़ी देशो में ही किया जाता है.आपकी जानकारी के लिए बता दे कि एसएसबी टीम की 41 वीं बटालिन के जवान बीती रात ही पश्चिम बंगाल से सटे नक्सलवाड़ी थाना क्षेत्र के इलाके में गश्त कर रहे थे. बस इसी दौरान कमांडेंट राजीव राणा को दो लोगो पर शक हुआ और जब उन्होंने उन दो लोगो को आवाज दी तो वो भागने लगे.

हालांकि जवानो ने उन दोनों को ही दौड़ कर पकड़ लिया. बरहलाल इसके बाद जब कमांडेंट राणा ने सख्ती से उन दोनों से पूछताछ की, तो उन्होंने सब कुछ बता दिया. जी हां उन दोनों के पास ही वो दुर्लभ प्रजाति की छिपकली बरामद हुई. बता दे कि वो दोनों तस्कर थे. इसके इलावा कमांडेंट राणा का कहना है कि इस छिपकली के मांस और पाउडर का इस्तेमाल कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की रोकथाम के लिए भी किया जाता है. गौरतलब है कि उन दोनों तस्करियो को बाद में नक्सलवाड़ी पुलिस के हवाले ही कर दिया गया और फ़िलहाल वो दोनों पुलिस की कैद में है. इसके साथ ही एसएसबी के जवानो का कहना है कि वो लोग छिपकली को चीन भेजने की फ़िराक में थे.

दरअसल चीन के मेडिकल क्षेत्र में इस छिपकली की काफी ज्यादा डिमांड है, जिसके लिए तस्करियो को मुँह मांगी कीमत दी जाती है.

You may also like

बेटी के पति पर आया सास का दिल, फिर उसके बच्चे की मां बनने के लिए कर डाला ये सब…

मप्र में जनसुनवाई के दौरान रिश्तों को कलंकित