बृहस्पतिवार को केसर का प्रयोग, देगा आपको राजयोग

- in धर्म

देव गुरु बृहस्पति के प्रिय वार बृहस्पतिवार को धन, पुत्र, मनचाहा जीवनसाथी और विद्या को पाने का दिन माना जाता है। इन्हें प्रसन्न करने के लिए लोग व्रत, उपाय, दान और खास पूजन करते हैं। इस दिन एक खास जड़ी-बूटी जिसका नाम है केसर, उसके प्रयोग से बहुत सारे लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं। गुरुवार के दिन सुबह नहाने की बाल्टी में थोड़ी सी हल्दी डालकर स्नान करें, केसर का तिलक लगाएं ललाट पर शुद्ध केसर का तिलक लगाना शुभता का प्रतीक है। इससे आर्थिक पक्ष भी मज़बूत होता है। इसके बाद घर के मंदिर में अथवा केले के पेड़ के पास बैठकर धूप- दीप से पूजा करें “ऊं नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र का जाप करें। भगवान विष्णु के सामने शुद्ध देसी घी का दीपक जलाएं। यह उपाय देगा राजयोग।देव गुरु बृहस्पति के प्रिय वार बृहस्पतिवार को धन, पुत्र, मनचाहा जीवनसाथी और विद्या को पाने का दिन माना जाता है। इन्हें प्रसन्न करने के लिए लोग व्रत, उपाय, दान और खास पूजन करते हैं। इस दिन एक खास जड़ी-बूटी जिसका नाम है केसर, उसके प्रयोग से बहुत सारे लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं। गुरुवार के दिन सुबह नहाने की बाल्टी में थोड़ी सी हल्दी डालकर स्नान करें, केसर का तिलक लगाएं ललाट पर शुद्ध केसर का तिलक लगाना शुभता का प्रतीक है। इससे आर्थिक पक्ष भी मज़बूत होता है। इसके बाद घर के मंदिर में अथवा केले के पेड़ के पास बैठकर धूप- दीप से पूजा करें "ऊं नमो भगवते वासुदेवाय" मंत्र का जाप करें। भगवान विष्णु के सामने शुद्ध देसी घी का दीपक जलाएं। यह उपाय देगा राजयोग।  मेन गेट पर ही नकारात्मकता को रोकने के लिए केसर से स्वास्तिक बनाएं, घर में खुशहाली वास करेगी।  अपनी शादीशुदा बेटी को समय-समय पर केसर उपहार के रूप में देने से उसके जीवन में सुख-शांति बनी रहती है।  लक्ष्मी पूजन से पहले मीठे दही में केसर मिला कर खाने से आश्चर्यजनक लाभ प्राप्त होते हैं।  कुंडली में बृहस्पति अशुभ चल रहा हो तो हर रोज़ नियम से केसर का तिलक मस्तक के सैंटर में, ह्रदय के मध्य और नाभि पर लगाएं।  दूध में केसर मिलाकर पीने से स्मरण शक्ति और पौरुष शक्ति में वृद्धि होती है।  चने की दाल और केसर श्री हरी विष्णु के मंदिर अथवा केले के पेड़ पर बृहस्पतिवार को रख आएं। ध्यान रहे पीछे मुड़कर नहीं देखें। इस उपाय से अभाग्य का नाश होता है।

मेन गेट पर ही नकारात्मकता को रोकने के लिए केसर से स्वास्तिक बनाएं, घर में खुशहाली वास करेगी।

अपनी शादीशुदा बेटी को समय-समय पर केसर उपहार के रूप में देने से उसके जीवन में सुख-शांति बनी रहती है।

लक्ष्मी पूजन से पहले मीठे दही में केसर मिला कर खाने से आश्चर्यजनक लाभ प्राप्त होते हैं।

कुंडली में बृहस्पति अशुभ चल रहा हो तो हर रोज़ नियम से केसर का तिलक मस्तक के सैंटर में, ह्रदय के मध्य और नाभि पर लगाएं।

दूध में केसर मिलाकर पीने से स्मरण शक्ति और पौरुष शक्ति में वृद्धि होती है।

चने की दाल और केसर श्री हरी विष्णु के मंदिर अथवा केले के पेड़ पर बृहस्पतिवार को रख आएं। ध्यान रहे पीछे मुड़कर नहीं देखें। इस उपाय से अभाग्य का नाश होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

नहाने के पानी में डाले इस तेल की दो बून्द फिर होगा चमत्कार

दुनिया में हर इंसान पैसे का लालची होता