बनर्जी सरकार में अब नहीं दबेंगे हिन्दू, मुस्लिम हमलावरों को दिखाई औकात

कोलकाता। बीते कई दिनों से पश्चिम बंगाल में हिन्दू पर हो रहे अत्याचार के काफी वीडियो सामने आए। हिन्दुओं को लेकर राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की तरफ से या उनके किसी नेता ने बयान नहीं दिया। इस बीच बड़ी ख़बर सोशल मीडिया पर सामने आ रही है, जिसमें कुछ मुस्लिम हमलावरों को हिन्दुओं ने दौड़ा दौड़ा कर मारा।

इससे पहले खबर आई थी कि पश्चिम बंगाल के धुलागढ़ में सांप्रदायिक हिंसा की रिपोर्टिंग से नाराज मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जी न्यूज के संपादक सुधीर चौधरी, रिपोर्टर पूजा मेहता और कैमरामैन तन्मय मुखर्जी के खिलाफ FIR दर्ज करा दिया था। मुकदमा 153(A) जैसी गैर जमानती धाराओं में लिखा गया।

अभी कुछ ही दिनों पहले सोशल मीडिया पर एक विडियो सामने आया था जिसमे मुस्लिमों ने एक हिंदू युवक को बेरहमी से पिटा था क्योंकि उस युवक ने मोदी जिंदाबाद का नारा लगाया था और इस्लाम ज़िंदाबाद कहने से माना कर दिया था।

दरअसल ये विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है अभी ये कहना मुस्किल है ये विडियो कहा से आया और किसने बनाया और ये लड़के कोन है। इस विडियो को अभी अच्छे से जाँच नहीं हुई है कि ये विडियो कहा का है तो हम इसकी सत्यता की घोषणा नहीं करते |

Best news portal designing company in lucknow

पश्चिम बंगाल में हिन्दू

2011 की जनगणना ने खतरनाक जनसंख्यिकीय तथ्यों को उजागर किया है। जब अखिल स्तर पर भारत की हिन्दू आबादी 0.7 फीसदी कम हुई है तो वहीं सिर्फ बंगाल में ही हिन्दुओं की आबादी में 1.94 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है, जो कि बहुत ज्यादा है। राष्ट्रीय स्तर पर मुसलमानों की आबादी में 0.8 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है, जबकि सिर्फ बंगाल में मुसलमानों की आबादी 1.77 फीसदी की दर से बढ़ी है, जो राष्ट्रीय स्तर से भी कहीं दुगनी दर से बढ़ी है।

पश्चिम बंगाल की कुल आबादी 9.12 करोड़ है, जिसमें हिंदुओं की जनसंख्या 6.4 करोड़ या कहें कि 70.53 फीसदी है। जबकि, मुसलमानों की जनसंख्या 2.4 करोड़ या कहें कि 27.01 फीसदी है। जबकि साल 2001 की जनगणना के आंकड़ों की तुलना में बंगाल में जनसंख्या का धर्म विषमता का तेज होता प्रसार साफ तौर पर देखा जा सकता है।

मुस्लिमों की बढ़ती आबादी

बंगाल के तीन जिले जहां पर मुस्लिमों ने हिन्दुओं की जनसंख्या को भी तेजी से पीछे छोड़ते हुए अपना विस्तार किया है। वे जिले है मुर्शिदाबाद (47 लाख मुस्लिम और 23 लाख हिन्दू), मालदा (20 लाख मुस्लिम और 19 लाख हिन्दू), और उत्तरी दिनाजपुर (15 लाख मुस्लिम और 14 लाख हिन्दू )।

loading...
=>

You may also like

दिव़ाली से पहले जीएसटी पोर्टल को लगा बड़ा झटका, रिटर्न भरने वालों को भी नोटिस

दिवाली से पहले जीएसटी पोर्टल चरमरा गया है।