Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > प्रख्यात रामकथा वाचक राजेश्वरानंद का हुआ निधन, अधूरी रह गई यह इच्छा

प्रख्यात रामकथा वाचक राजेश्वरानंद का हुआ निधन, अधूरी रह गई यह इच्छा

देश-विदेश में प्रख्यात कथावाचक राजेश्वरानंद उर्फ राजेश रामायणी का हृदयगति रुकने से निधन हो गया। वे रायपुर छत्तीसगढ़ में राम कथा प्रवचन करने गए थे। खबर फैलते ही रामायणी के गांव से लेकर पूरे जालौन जनपद में शोक की लहर दौड़ गई। जिले के सांसद, विधायक और अधिकारी एवं सभी दलों के जिलाध्यक्ष उनके घर पहुंचने लगे है। रामायणी अपनी संगीतमयी रामकथा के लिए विदेशों में भी जाने जाते थे।प्रख्यात रामकथा वाचक राजेश्वरानंद का हुआ निधन, अधूरी रह गई यह इच्छा

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद भी रामायणी और उनकी राम कथा से काफी प्रभावित थे। परिवार के करीबियों के मुताबिक रामायणी का अंतिम संस्कार शुक्रवार को उनके पैतृक गांव में ही किया जाएगा। एट न्याय पंचायत के पचोखरा निवासी राजेश रामायणी का जन्म 22 सितंबर 1955 में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा 1967 में गांव के ही नेहरू जूनियर हाईस्कूल में हुई। पढ़ाई के दौरान भी वे कक्षा में अपनी मधुर आवाज में चौपाइयां सुनाया करते थे। जिससे गांव के लोग व शिक्षक आश्चर्यचकित रहते थे।

रामायण में रुचि रखने के कारण स्नातक की शिक्षा ग्रहण करने के बाद अपने गुरु स्वामी अविनाशी राम के साथ जाकर उनकी कथा में सहयोग करने लगे। युवावस्था में उनके मुख से रामकथा सुनकर लोग स्वयं को काफी आनंदित महसूस करते थे। कई बड़े व्यवसाई घरानों ने इन्हें अपना गुरु माना। जिसके बाद इनकी रामकथा देश से लेकर विदेश तक पहुंचने लगी।

Loading...

Check Also

राष्ट्रपति कोविंद पहुंचे प्रयागराज, संगम किनारे पूजा-अर्चना कर बढ़ाएंगे कुंभ की शान

राष्ट्रपति कोविंद पहुंचे प्रयागराज, संगम किनारे पूजा-अर्चना कर बढ़ाएंगे कुंभ की शान

राष्ट्रपति सुबह 09.35 बजे पर बम्हरौली एयरपोर्ट पर पहुंचें। वहां से हेलीकाफ्टर द्वारा अरैल स्थित …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com