Home > जीवनशैली > पर्यटन > प्रकृति की गोद में लें छुट्टियों का मजा

प्रकृति की गोद में लें छुट्टियों का मजा

रोजमर्रा के कामकाज की थकान के बाद सबको तलाश होती है सुकून के कुछ पलों की. शहर की इमारतों और भीड़भाड़ से अलग अगर आप भी कुछ दिन प्रकृति की गोद में बिताना चाहते हैं तो हम आपको बताएंगे कुछ ऐसे जगहों के बारे में जिनकी याद आपके जेहन में हमेशा ताजा रहेंगी.प्रकृति की गोद में लें छुट्टियों का मजा

इंडोनेशियाः
क्यों है खास- भीड़-भाड़ से अलग बाली के दूरदराज में स्थित बीच प्राकृतिक नजारों से भरे पड़े हैं. इन बीचों में लोमबेक और गिली द्वीप प्रमुख हैं. बड़े खूबसूरत शहरों, चमचमाती सड़कों और रंगा-रंग जिंदगी के अलावा जावा द्वीप समूह में भी कई खूबसूरत जगह मौजूद हैं. वहां आप जिंदा ज्वालामुखी और पंगाडरन की वाइल्ड लाइफ का अनंद ले सकते हैं.

कितना खर्च- घूमने के लिहाज से इंडोनेशिया काफी सस्ता है. वहां आपको 3 हजार रुपये में औसत और 6500 रुपये में 4 स्टार रूम आसानी से मिल जाएंगे.

बेलीजः

क्यों है खास- यहां 87 अलग-अलग तरह के इकोसिस्टम हैं, जिनसे इकोसिस्टम और कृषि को लाभ मिलता है. यही इस देश की अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार है. मयन मंदिर यहां मुख्य आकर्षण का केंद्र है.

कितना खर्च- यहां होटल, खाना और घूमना लेकर एक व्यक्ति पर प्रतिदिन के हिसाब से 6 से 9 हजार लग जाते हैं.

जॉर्डनः

क्यों है खास- यहां नई और पुरानी संस्कृति को एक साथ देखा जा सकता है. यहां के प्राकृतिक नजारे भी अद्भुत हैं. आधुनिक शहर अम्मान से मृत सागर और जॉर्डन के सिटी ऑफ पेट्रा को देखना एक अलग अनुभव है.

कितना खर्च- यहां 9,500 रुपये तक होटल में कमरा उपलब्ध है. साथ ही साथ आपको अच्छा-खासा डिसकाउंट भी मिल सकता है.

केन्याः

क्यों है खास- अगर आपको जानवरों का शौक है तो केन्या आपके लिए शानदार विकल्प है. यहां 50 से ज्यादा नेशनल पार्क और रिजर्व क्षेत्र हैं, जहां के अपने कुछ खास नियम हैं. इसके अलावा यहां खूबसूरत बीचों की भरमार है.

कितना खर्च- यहां एक व्यक्ति औसत 2,500 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से आराम से रह सकता है. अगर आप लग्जरी आनंद चाहते हैं तो आपको 18,000 रुपये प्रतिदिन खर्च करने होंगे.

Loading...

Check Also

इंडिया का स्विट्जरलैंड, विदेशी तक देखते रह जाते हैं खूबसूरत नजारे

इंडिया का स्विट्जरलैंड, विदेशी तक देखते रह जाते हैं खूबसूरत नजारे

कश्मीर को धरती का स्वर्ग कहा जाता है, यह बात तो सब जानते हैं पर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com