पाक ने की वर्ल्ड बैंक से शिकायत, कहा सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा भारत

पाकिस्तान के संयुक्त राष्ट्र मिशन के एक बयान के मुताबिक, विश्व बैंक जल्द ही सिंधु जल संधि विवाद को हल करने के लिए एक नई पहल के साथ भारत और पाकिस्तान से संपर्क करेगा. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि वर्ल्ड बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम ने इस बात की जानकारी दी है कि वे जल्द ही इस मसले पर कदम उठाएंगे. 

जानकारी के अनुसार पाक विदेश मंत्री कुरेशी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में जिम से मुलाकात की और भारत की किशन गंगा और रटल परियोजनाओं के बारे में शिकायत करते हुए कहा कि भारत 1960 के दौरान हुई सिंधु जल संधि का उल्लंघन कर रहा है. उल्लेखनीय है कि सिंधु नदी का इलाका करीब 11.2 लाख किलोमीटर क्षेत्र में फैला हुआ है. ये इलाका पाकिस्तान (47 प्रतिशत), भारत (39 प्रतिशत), चीन (8 प्रतिशत) और अफ़गानिस्तान (6 प्रतिशत) में है. 

मैं भारत से प्यार करता हूं, जानिए और क्या कहा डोनाल्ड ट्रंप ने

आपको बता दें कि सिंधु जल संधि 1960 के प्रावधानों के तहत, पूर्वी नदियां सतलज, बियास और रवि के पानी को भारत और पश्चिमी नदियों  सिंधु, झेलम और चिनाब के पानी को पाकिस्तान को आवंटित किया गया था.  इस सन्धि में विश्व बैंक (तत्कालीन पुनर्निर्माण और विकास हेतु अंतरराष्ट्रीय बैंक) ने मध्यस्थता की, इस संधि पर कराची में 19 सितंबर, 1960 को भारत के प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू और पाकिस्तान के राष्ट्रपति अयूब खान ने हस्ताक्षर किए थे. 

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *