पाकिस्तान ने फिर की क्रूर हरकत, सिख जत्थे के साथ कैदियों जैसा बर्ताव

- in पंजाब
पाकिस्तान की ‘नापाक’ हरकत से कभी बाज नहीं आए, अब वह सिख जत्थे के साथ कैदियों जैसा बर्ताव कर रहा है। उन्हें वहां कैद करके रखा गया है। वहां सिख संगत को दिन में तीन बार हाजिरी लगानी पड़ती है। श्री ननकाना साहिब व अन्य गुरुद्वारों के बाहर पाकिस्तान की हुकूमत ने पहरा लगा रखा था। किसी को भी गुरुद्वारे से बाहर आने-जाने नहीं दिया गया। सुबह, दोपहर, शाम के वक्त जेल के कैदियों की तरह हाजिरी लगाई गई।
पाकिस्तान ने फिर की क्रूर हरकत, सिख जत्थे के साथ कैदियों जैसा बर्तावसिख संगत की वीडियोग्राफी की जाती रही। कई श्रद्धालुओं के सामानों की तलाशी भी ली गई। वतन लौटते समय लाहौर रेलवे स्टेशन पर कुछ संगत के कैमरों से फोटो डिलीट कर दिए गए। मोबाइल चेक किए गए। श्री गुरुनानक देव जी के प्रकाशोत्सव पर श्री ननकाना साहिब गया सिख जत्था शनिवार को तीन स्पेशल ट्रेनों से खट्टी-मीठी यादों के साथ वतन लौटा। जत्थे में शामिल 2346 संगत को लेकर स्पेशल ट्रेनें 11:40, 13:35 व 15:30 बजे भारत पहुंचीं।

जत्थे में शामिल अधिकांश श्रद्धालुओं के चेहरों पर श्री ननकाना साहिब के दर्शन की खुशी दिखी। वहीं पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई के व्यवहार से तनाव भी झलका। पाक से लौटे मंगल सिंह ने बताया कि इस बार श्री ननकाना साहिब में दो स्टेज लगी थी। एक स्टेज से कनाडा, जर्मनी व अन्य देशों से आए गरमख्याली नेताओं ने भारत विरोधी जहर उगला। श्री ननकाना साहिब में पिछले वर्ष की तुलना में संगत के ठहरने व खाने-पीने की व्यवस्था बेहतर थी।

जत्थे में शामिल श्रद्धालुओं को गुरुद्वारे से बाहर निकलने पर पाबंदी लगा रखी थी। यही वजह थी कि सिख जत्था इस बार यात्रा के दौरान काफी कठिनाइयों से गुजरा। पाक की कई खुफिया एजेंसियां संगत से लंबी पूछताछ करती रही। जबकि भारत विरोधी नारेबाजी करने वाले गरमदल के विदेशी श्रद्धालुओं पर पाक मेहरबान रहा।

अटारी स्टेशन पर पुलिस ने नहीं बांटने दिया लंगर

अटारी रेलवे स्टेशन पर लौटे जत्थे को लंगर बांटने से जीआरपी ने मना कर दिया। सुरक्षा का हवाला देकर लंगर बांटने रेलवे स्टेशन के अंदर नहीं जाने दिया गया। जिसके चलते एसजीपीसी की ओर से भेजा गया लंगर रेलवे स्टेशन के बाहर बांटा गया। यह पहली बार है
जब स्टेशन के अंदर लंगर बांटने पर मनाही लगाई गई।

खुफिया विभाग ने अटारी रेलवे स्टेशन पर डाला डेरा
सिख जत्थे के वापस लौटने पर भारतीय खुफिया एजेंसियों ने अटारी रेलवे स्टेशन पर डेरा डाल दिया। एजेंसियों के पदाधिकारियों ने पाक से लौटे जत्थे में शामिल संगत से बातचीत कर पाकिस्तान में यात्रा के दौरान हुई कठिनाइयों के बारे में रिपोर्ट बनाई।

श्री ननकाना साहिब में लगे खालिस्तान के नारे
श्री ननकाना साहिब में विदेशों से आए सिख जत्थों ने खालिस्तान के जमकर नारे लगाए। इस दौरान चप्पे-चप्पे पर पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई के पदाधिकारी मौजूद थे। पाक गए जत्थे को लाहौर रेलवे स्टेशन पर 100 पाक करेंसी के बदले 55 भारतीय रुपये दिए गए। संगत को लगभग 15 रुपये वापसी पर कम दिए गए। जबकि डालर व यूरो के दाम अंतरराष्ट्रीय मूल्य पर ही बदले गए।

loading...
=>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पिता गर्लफ्रेंड से करना चाहता था शादी, चचेरे भाई से कराई अपने 3 बच्चों की हत्या

पंचकूला. कुरुक्षेत्र के गांव सारसा से गायब हुए तीन