पवित्र रमजान माह में अल्लाह को खुश करने के लिए, अपनी प्यारी बेटी का गला रेत कुर्बान कर दिया

- in राजस्थान

राजस्थान में जोधपुर जिले के पीपाड़ शहर में एक पिता ने अपनी 4 साल की बेटी की गला रेत कर हत्या कर दी। गुरूवार रात अपनी बेटी की हत्या करने वाले पिता को शनिवार को जोधपुर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। हत्यारे पिता ने पुलिस पूछताछ में बताया कि,पवित्र रमजान माह में अल्लाह को खुश करने के लिए अपनी प्यारी बेटी को कुर्बान कर दिया।पवित्र रमजान माह में अल्लाह को खुश करने के लिए, अपनी प्यारी बेटी का गला रेत कुर्बान कर दिया

आरोपित पिता ने बताया कि बेटी को मारने से पहले उसे शहर में घुमाया,उसे मिठाई खिलाई इसके बाद रात को उसे नींद से उठाकर कलमा पढ़वाया और फिर उसे कुर्बान कर दिया। पुलिस के अनुसार बेटी की हत्या का आरोपित पिता नवाब अली गुरूवार रात दो बेटियों और पत्नी शबाना के साथ घर की छत पर सो रहा था।

रात करीब 3 बजे आरोपित की पत्नी की आंख खुली तो बेटी रिजवान नहीं दिखी उसने इधर-उधर देखा तो छत पर खुन से सनी बेटी नजर आई। उसने तत्काल पति को जगाया और फिर बच्ची को अस्पताल पहुंचाया,जहां चिकित्सकों ने उसके मृत घोषित कर दिया। आरोपित की पत्नी शबाना की रिपोर्ट पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच प्रारम्भ कर दी।

जांच के दौरान जोधपुर ग्रामीण के पुलिस अधीक्षक राजन दुष्यंत को घर में किसी बाहरी व्यक्ति के प्रवेश की संभावना नगण्य नजर आई। फोरेंसिक एक्सपर्ट को बुलाकर जांच करवाई गई। बच्ची की हत्या के मामले में परिजनों से पूछताछ की गई। शक के आधार पर पुलिस ने नवाब अली के साथ कड़ाई से पूछताछ की तो उसने बच्ची की हत्या की बात स्वीकार कर ली।

नवाब अली ने पुलिस को बताया कि,उसने रमजान के महीने में अल्लाह को खुश करने के लिए बेटी की हत्या कर दी। उसने कहा कि जीवन की सबसे प्यारी चीज अल्लाह को कुर्बान करने के लिए बेटी को हलाल कर दिया। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि पूछताछ में नवाब अली ने बताया कि बेटी की कुर्बानी का प्लान उसने कई दिनों से बना रखा था। इस कारण उसने ननिहाल गई बेटी को अपने घर बुलाया था ।

Patanjali Advertisement Campaign

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

स्वतंत्रता दिवस समारोह में सीएम राजे ने खोला घोषणाओं का पिटारा

जयपुर । राजस्थान का राज्य स्तरीय स्वतंत्रता दिवस समारोह