पति की कमी तो खलेगी पर उनके सपने को पूरा करूंगी : शहीद विजय की पत्नी

देवरिया। पुलवामा के आतंकी हमले में छपिया जगदीश गांव निवासी शहीद विजय मौर्य की पत्नी विजय लक्ष्मी मौर्य का कहना है विजय मौर्य के शहीद के बाद कि उनकी तो दुनिया उजड़ गई थी पर जबसे सरकार और लोगों की मदद मिली तो खुद को और परिवार को संभालने का रास्ता भी मिल गया है। सरकार ने उन्हें देवरिया कलेक्ट्रेट में कनिष्ठ लिपिक के पद पर नौकरी दी है।
ये भी पढ़ें : जानलेवा हमले से बाल-बाल बचे गए बांग्लादेशी क्रिकेट टीम 
बता दें कि विजयलक्ष्मी की आंखों में आतंकी हमले के प्रति गुस्सा साफ दिख रहा था। विजयलक्ष्मी डेढ़ साल की बेटी आराध्या के साथ सेंट जेवियर्स स्कूल के कार्यक्रम में शामिल होने आईं थीं कार्यक्रम में विजयलक्ष्मी ने बातचीत करते हुए भावुक भी हो गईं। विजयलक्ष्मी ने कहा कि सेना के शौर्य पति की शहादत पर उन्हें गर्व है, भावुक होकर उन्होने कहा कि पति की कमी तो जिंदगी भर खलेगी पर उनके सपने को पूरा करने में मैं कोई कसर नहीं छोड़ेंगी।
ये भी पढ़ें : इमरान खान को विश्वास है चुनाव बाद भारत सहित सभी देश के साथ बेहतर होंगे संबंध 
उन्होंने बताया कि पति विजय मौर्य ने दस दिन की छुट्टी बिताकर जाते समय जल्द घर आने का वादा किया था, लेकिन 14 फरवरी को हुए आतंकी हमले में वह शहीद हो गए। एक पल में ही उनके सारे सपने चकनाचूर हो गए। उनकी शहादत की खबर सुनकर विश्वास ही नहीं हो रहा था, विजयलक्ष्मी ने कहा कि डेढ़ साल की बेटी आराध्या को तो इस बात का पता ही नहीं है कि उसके सिर से पिता का साया भी उठ चुका है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button