Home > राज्य > पंजाब > पति का आरोप कहा- मेरी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया, और सिविल अस्पताल के स्टाफ ने बदल कर मुझे लड़की दी

पति का आरोप कहा- मेरी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया, और सिविल अस्पताल के स्टाफ ने बदल कर मुझे लड़की दी

अमृतसर. शुक्रवार सुबह सिविल अस्पताल में डिलीवरी के बाद बदले जाने से हड़कंप मच गया। अस्पताल में दाखिल महिला तानिया के पति गौरव का आरोप था कि उसकी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया था, लेकिन बाद में लड़की लाकर दे दी गई। बच्चों की अदला-बदली की बात अस्पताल में फैलने से प्रबंधन को हाथ-पांव की पड़ गई और मौके पर पुलिस को बुलाया गया। पुलिस को इस संबंधी लिखित में शिकायत भी दे दी है।
पति का आरोप कहा- मेरी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया, और सिविल अस्पताल के स्टाफ ने बदल कर मुझे लड़की दी
वहीं अस्पताल प्रबंधन ने भी जांच शुरू कर दी है। शुक्रवार सुबह 3 से 4 बजे के बीच में सिविल अस्पताल में दो गर्भवती महिलाओं की डिलीवरी हुई। इनमें से पहली महिला तानिया पत्नी गौरव निवासी लोहगढ़ दूसरी ज्योति पत्नी प्रिंस थी। तानिया के पति गौरव ने बताया कि उसकी पत्नी को रात 8:30 बजे सिविल अस्पताल में दाखिल करवाया गया। जिस तहत तानिया की डिलीवरी पहले की गई थी। उसकी बहन चांदनी भी उस समय वहीं पर मौजूद थी। सुबह 3 बजे के बाद उसकी बहन चांदनी लेबर रूम से बाहर और उसने बताया कि लड़के ने जन्म लिया है।

ये भी पढ़े: आशु और युवती ने आपस में 1 साल में 4176 फोन कॉल्स कीं, संबंध गहरे थे; मगर जबरदस्ती नहीं हुई

कुछ समय बाद चांदनी फिर लेबर रूम से बाहर आई और कहा कि स्टाफ 2 कप चाय मांग रहा है। जब वह चाय लेकर वापस आया तो स्टाफ ने बहन चांदनी को बच्चा देकर कहा कि अस्पताल के डाॅक्टरों से इसकी जांच करवा लें। बच्चे की जांच की तो पता चला कि लड़के की बजाय लड़की है। गौरव का आरोप है कि अस्पताल स्टाफ ने उनके बच्चे को बदल दिया। गौरव ने बताया कि अस्पताल के सीनियर अधिकारी भी उसकी सुनवाई नहीं कर रहे हैं। वह इस संबंधी पुलिस के उच्च अधिकारियों को भी शिकायत देकर आया है। बच्चे का डीएनए टेस्ट करवाया जाए, ताकि सच सामने सके। वहीं अस्पताल में ज्योति नाम की महिला की डिलीवरी हुई थी। उसके पति प्रिंस ने भी दावा किया कि उसके घर लड़का पैदा हुआ है। उसने कहा कि उसका पहला बच्चा है। अन्य व्यक्ति क्या आरोप लगा रहा है उसे उससे कोई संबंध नहीं है।
 
गौरव के आरोप बिलकुल झूठे : एसएमओ
 
सिविल अस्पताल के एसएमओ डॉ. रजिंद्र अरोड़ा ने कहा कि गौरव के आरोप झूठे हैं। उसके घर लड़की ही पैदा हुई है। अस्पताल प्रशासन के पास जो रिकॉर्ड है उसमें स्पष्ट है कि गौरव के घर लड़की ही पैदा हुई है। डीएनए टैस्ट के लिए उच्च अधिकारियों को लिखा जाएगा। अस्पताल के इंचार्ज डॉ. चरणजीत ने कहा कि डॉ. अरोड़ा मामले की गंभीरता से जांच कर रहे हैं। जांच के बाद मामला साफ हो जाएगा
Loading...

Check Also

बागी, ‘आप’ और शिअद विधायक एक मंच पर आए तो नई सियासत का होगा उदय: सुखपाल खैरा

पूर्व कैबिनेट मंत्री मंजीत सिंह कलकत्ता भी साथ आ गए हैं। इसके अलावा पूर्व विधायक …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com