नवाज शरीफ की हुई जमकर पिटाई; ‘पिटने’ के बाद कहते हैं भाई मैंने बहुत ‘मारा’

जी हाँ!! नवाज शरीफ की हुई जमकर पिटाई; ‘पिटने’ के बाद कहते हैं भाई मैंने बहुत ‘मारा’| आपने ऐसे बहुत सारे लोगों को देखा होगा जो मार खाने के बाद भी हेकड़ी झाड़ते हैं और ऐसा दिखाने की कोशिश करते हैं कि जैसे वो पिटे नहीं हैं बल्कि खुद किसी और को खूब पीट कर आएं हैं। आम जनता की बात तो छोडि़ए इन दिनों पाकिस्‍तान में वहां के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और आर्मी चीफ राहिल शरीफ पाकिस्‍तानी जनता को खूब गुमराह कर रहे हैं। भारत को लेकर पाकिस्‍तानी मीडिया में प्रोपेगंडा शुरु हो गया है। नवाज शरीफ और राहिल शरीफ पाकिस्‍तानी आवाम को पाक मीडिया के जरिए कुछ ऐसा बताने की कोशिश कर रहे हैं कि मानो पाक फौज दिल्‍ली में घुसकर कनॉट प्‍लेस में भारतीय सैनिकों को मारकर जा रही हो। लेकिन, अब इन दोनों की हकीकत पाकिस्‍तानी आवाम के सामने आ गई है।

नवाज शरीफ की हुई जमकर पिटाई; ‘पिटने’ के बाद कहते हैं भाई मैंने बहुत ‘मारा’

दरअसल, अभी बीते रविवार को ही पाकिस्‍तानी फौज ने सीमा पर सीजफायर का उल्‍लंघन किया था। भारतीय जवानों ने पाक फौज के सीजफायर का करारा जवाब देते हुए भिंबर सेक्‍टर में पाकिस्‍तान की कई चौकियों को नेस्‍तनाबूत कर दिया था। भारतीय सैनिकों की जवाबी कार्रवाई में पाकिस्‍तान के 7 जवान भी मारे गए थे। इसके बाद से ही पाकिस्‍तान बौखलाया हुआ था। लगातार भारतीय सेना से पिटने के बाद और पाकिस्‍तानी आवाम के सामने सेखी बघारने के लिए पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पाक आर्मी चीफ राहिल शरीफ ने दावा किया कि 13 नवंबर को भारतीय फायरिंग का जवाब पाक फौज ने 14 नवंबर को दिया। जिसमें भारत के 11 सैनिक मारे गए।

पाकिस्‍तान के अखबार द डॉन ने इस खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया। लेकिन, भारतीय फौज ने पाकिस्‍तान के इस दावे पर खंडन भेज दिया। भारतीय सेना के नॉर्दन कमांड ने ट्वीट किया और बताया कि 14, 15 और 16 नवंबर को क्रॉस बार्डर फायरिंग में किसी भारतीय सैनिक के शहीद होने की बात तो दूर कोई जख्‍मी तक नहीं हुआ है। पाकिस्‍तान में ये भारतीय सेना का ये मैसेज वायरल हो गया है। जिसके बाद पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और पाक आर्मी चीफ राहिल शरीफ के झूठ की कलई खुल गई है। वैसे तो नवाज शरीफ तो राहिल शरीफ से भी चार कदम आगे निकले। उन्‍होंने तो दावा किया था कि दोनों देशों के मौजूदा हालात के बीच पाक आर्मी के जवान अब तक 40-45 जवानों को मार चुके हैं।

जबकि ऐसा कुछ भी नहीं हैं हालांकि ये जरुर है क‍ि क्रॉस बार्डर फायरिंग में भारतीय सेना के कई जवान शहीद हो चुके हैं और कुछ आम नागरिक भी मारे गए हैं। लेकिन, ये संख्‍या ना तो चालीस है और ना ही पैंतालीस। आधिकारिक आंकडा 26 मौतों का है। जिसमें 14 सैनिक शहीद हुए हैं। जबकि 12 आम नागरिक मारे गए हैं। इससे पहले जब 19 सितंबर को कश्‍मीर के उरी में आर्मी के बेस कैंप में आतंकी हमला हुआ था उस पर भी जमात-उद-दावा के चीफ हाफिज सईद ने पाकिस्‍तानी आवाम और आतंकियों के सामने सफेद झूठ बोला था। इस हमले में 19 जवान शहीद हुए थे। जबकि हाफिज सईद पाकिस्‍तान में ये चिल्‍ला रहा था कि हमारे लड़ाकों ने भारतमें 177 लोगों को मारा है।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button