नगर पालिका अध्यक्ष ने कहा- कि शाही शादी के आयोजन की अनुमति नहीं दी गई है….

औली में शाही शादी के आयोजन को लेकर नगर पालिका अध्यक्ष शैलेंद्र सिंह पंवार ने कहा कि पालिका ने प्रशासन के पत्र के आधार पर सिर्फ कूड़ा उठाने पर सहमति जताई है न कि आयोजन के लिए किसी तरह की अनुमति दी है। पालिकाध्यक्ष ने कहा कि जिस भूमि पर शादी का आयोजन हो रहा है, वह पर्यटन विभाग के नाम दर्ज है। पालिका ने साफ सफाई व पर्यावरणीय क्षति न करने के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र दिया गया था। उन्होंने कहा कि सफाई व्यवस्था के लिए आयोजन समिति को पालिका ने खर्चे का ब्यौरा दिया था, जिसका अभी तक कोई भुगतान नहीं हुआ है। उन्होंने पालिका की ओर से आयोजन की अनुमति दिए जाने की बातों का खंडन किया है।

Loading...

औली के विकास के नाम पर पर्यटन विभाग को दी गई भूमि के एक भाग में हेलीकॉप्टर उतारे जाने से लोगों में रोष है। वहीं, इस विवाह के लिए लगाये जा रहे टैंट के पानी एवं सीवर की निकासी के लिए भी छोटे छोटे गड्ढे खोदे जा रहे हैं। उधर, एसडीएम वैभव गुप्ता का कहना है कि औली के एक स्थान विशेष में हेलीकॉप्टरों को उतारने की अनुमति पर्यटन विभाग ने दी है। क्योंकि वह भूमि पर्यटन विभाग के ही नाम है।

पालिका ने थमाया 28 लाख रुपये का बिल 

जोशीमठ पालिका अध्यक्ष शैलेन्द्र पंवार ने बताया कि नगर पालिका ने इस विवाह के आयोजन के लिए कोई अनुमति नहीं दी है, बल्कि आयोजन के दौरान औली में होने वाली गंदगी एवं कूड़े के निस्तारण के लिए आयोजकों को 28 लाख रुपये का बिल जरूर थमाया है। बताया कि यह बिल समारोह से औली में होने वाले कूड़े करकट की सफाई, सफाई के लिए तैनात अपने वाहन एवं कर्मचारी, कूड़ा एकत्रित करने के बाद इसके निस्तारण एवं निस्तारण तंत्र के विकास के लिए भेजा है। कहा कि औली दुनिया की खूबसूरत जगहों में शामिल है, इसे किसी भी दशा में गंदा नहीं होने दिया जायेगा।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *