धनवान बनाता है घर पर लगा फेंगशुई का यह पौधा, जानिए रखने की सही जगह

- in धर्म
चीनी वास्तुशास्त्र फेंग शुई में  घर और कार्यालय में कुछ खास तरह के पौधों को रखना बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसे पौधों से घर में सुख और समृद्धि आती है। फेंग शुई में बांस को बहुत ही शुभ और अच्छे भाग्य का प्रतीक माना गया है। फेंगशुई के अनुसार भाग्यशाली बांस को घर या दफ्तर में रखने से समृद्धि,स्वास्थ्य और सकारात्मक ऊर्जा आती है। आइए जानते हैं फेंगशुई के इस पौधे की विशेषता।धनवान बनाता है घर पर लगा फेंगशुई का यह पौधा, जानिए रखने की सही जगह

-घर में आर्थिक सम्पंन्नता और सुख-शांति के लिए इस भाग्यशाली बांस के पौधे को रखने का सबसे अच्छी दिशा पूर्व या दक्षिण दिशा होती है। दक्षिण- पूर्व दिशा को सकारात्मक ऊर्जा के लिहाज से यह सबसे अच्छी दिशा मानी जाती है।

– बांस का यह पौधा फेंग शुई के सभी पांच तत्वों पृथ्वी, आग, धातु, पानी और लकड़ी का प्रतिनिधित्व करता है। पत्थर के छोटे टुकड़े पृथ्वी के तत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं। बर्तन में मौजूद जल, जल तत्व का प्रतिनिधित्व करते हैं और सभी बांस डंठलों को बांधने वाला लाल रिबन अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करता हैं।

-फेंग शुई के इस पौधे में बांस के कई डंडल होते हैं जो अलग-अलग चीजों का प्रतिनिधित्व करते हैं। अगर आप को अपने जीवन में सादगी से रहना पंसद है तो कांच के बर्तन में बांस के एक डंठल का प्रयोग करें।
– वही पति और पत्नी के बीच मधुर संबंध बनाए रखने के लिए दो बांस के डंठल का प्रयोग शुभ माना गया है।

-समृद्धि और सुख के लिए तीन बांस के बीच में एक टेढ़े बांस का इस्तेमाल शुभ होता है। फेंगशुई में तीन बांस के डंठल तीन प्रकार के भाग्य का प्रतिनिधित्व करते हैं – सुख, दीर्घ जीवन और समृद्धि।

-पढ़ाई में अच्छी उपलब्धि, रचनात्मकता और लेखन के लिए चार बांस डंठल का इस्तेमाल किया जाना शुभ होता है।
– खुशी और अच्छे भाग्य के लिए पांच बांस के डंठल का प्रयोग किया जाना चाहिए।

-जीवन में धन की कभी कमी महसूस न हो इसके लिए फेंगशुईं में 6 बांस के डंठल का इस्तेमाल करना चाहिए। फेंग शुई के अनुसार बांस के छह डंठल धन को आकर्षित करते हैं।

-अच्छे रिश्तों, सेहत और भाग्य के लिए सात बांस डंठल का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। फेंग शुई के अनुसार, घर और कार्यस्थल में बांस के सात डंठलों के इस्तेमाल से वातावरण शुद्ध होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जानिए क्या होता है शनि की टेढ़ी नज़र का असर

शनि की टेढ़ी नज़र – शनि देव को ज्‍योतिषशास्‍त्र में