Home > राष्ट्रीय > द्वारका बिल्डिंग हादसा: लाडली बेटी को बचाने में गई मम्मी-पापा की जान

द्वारका बिल्डिंग हादसा: लाडली बेटी को बचाने में गई मम्मी-पापा की जान

ग्रेटर नोएडा और गाजियाबाद के बाद दिल्ली के द्वारका इलाके के हरि विहार में एक इमारत की छत गिर गई. इस दर्दनाक हादसे में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि तीन अन्य घायल हो गए हैं. हादसा रविवार रात को हुआ. एक अग्रेंजी अखबार में छपी खबर के मुताबिक, दंपती की मौत अपनी 8 साल की मासूम बच्ची राधिका को बचाने के दौरान हुई. रेस्क्यू के दौरान मलबे के नीचे से दोनों का शव मिला. हादसे में माता-पिता की जान तो चली गई, लेकिन उन्होंने अपनी मासूम बच्ची को बचा लिया. राधिका को कई फ्रैक्चर का सामना करना पड़ा है. तीनों बच्चों का इलाज चल रहा है. द्वारका बिल्डिंग हादसा: लाडली बेटी को बचाने में गई मम्मी-पापा की जान

हादसे के बाद जब बच्चों को ये खबर मिली कि इस हादसे में उनके माता-पिता दोनों की मौत हो गई है, तब से तीनों बच्चों का रो-रोकर बुरा हाल है. राधिका का कहना है कि उन्होंने हमारे भविष्य के लिए कई बलिदान किए. राधिका ने कहा, ‘पापा-मम्मी ने आखिरी पलों तक हमारे लिए संघर्ष किया. छत गिर जाने के बाद मुझे बचाने के लिए उन्होंने अपनी गवां दी’.

परिवार के मुखिया सुनील चप्पल के कारखाने में काम करते थे. उनकी आय ज्‍यादा नहीं थी. वहीं, पत्नी रचना गृहिणी थीं. बच्चों का नाम वैभव, गुलशन और राधिका है. सुनील अपने बच्चों के लिए दिन रात मेहनत करते थे. तीनों बच्चों में वैभव सबसे बड़ा था, जो बीएससी दूसरे वर्ष का छात्र है, गुलशन एक सरकारी स्कूल में 11वीं की में पढ़ता है. घर की सबसे छोटी और सबकी लाडली बेटी राधिका का एडमिशन कुछ ही दिन पहले उन्होंने ईडब्ल्यूएस कोटा के तहत एक निजी स्कूल में कराया था. राधिका कक्षा तीसरी की छात्रा है.  

आपको बता दें, द्वारका के हरि विहार इलाके में रविवार (22 जुलाई) की रात एक घर गिर जाने से दो लोगों की मौत हो गई है, जबकि 3 लोग घायल हो गए हैं. पुलिस के मुताबिक, मकान में सुनील अपनी पत्नी और अपने तीन बच्चों के साथ रहते थे. लगातार हो बारिश होने के चलते छत से पानी रिसा करता था, जिसकी वजह से छत कमजोर हो गई थी और रविवार को छत भरभरा कर गिर गई. मृतक के बेटे ने बताया कि 
पानी रिसने को रोकने के लिए छत पर ईंटो की एक परत बिछाई गई थी और छत की मजबूती के लिए लोहे की एक रॉड लगाई गई थी. लेकिन रॉड छत का भार बर्दाश्त नहीं कर सकी. 

आपको बता दें कि पिछले कुछ दिनों में दिल्ली-एनसीआर में इमारत गिरने की कई घटनाएं हुई हैं. ग्रेटर नोएडा के शाहबेरी में एक निर्मिणाधीन बिल्डिंग के गिर जाने से 9 लोगों की मौत हो गई. वहीं, शनिवार को गाजियाबाद के डासना फ्लाईओवर के पास भी एक पांच मंजिला निर्माणाधीन इमारत गिर गई. इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि चार लोग घायल हो गए. 

Loading...

Check Also

CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने टली 29 नवंबर तक सुनवाई

CBI डायरेक्टर आलोक वर्मा की अर्जी पर सुप्रीम कोर्ट ने टली 29 नवंबर तक सुनवाई

उच्चतम न्यायालय में सीबीआई निदेशक आलोक कुमार वर्मा ने भ्रष्टाचार के आरोपों से संबंधित सीवीसी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com