दोनों शहजादे मिलकर यूपी को लूटना चाहते हैं- अमित शाह

अमित शाह ने शुक्रवार को हापुड़ में राहुल-अखिलेश पर जमकर निशाना साधा। उन्‍होंने कहा, ”यूपी में दो शहजादे साथ आए हैं, जिसमें एक ने देश को लूटा और दूसरे ने प्रदेश को। अब दोनों मिलकर यूपी को लूटना चाह रहे हैं। कानून व्‍यवस्‍था की स्‍थिति यूपी में खत्‍म हो गई है। यहां पर ‘पैसा लो और ऑर्डर करो’ का सिस्‍टम है।’राहुल की आंख पर इटैलियन चश्‍मा…दोनों शहजादे मिलकर यूपी को लूटना चाहते हैं- अमित शाह
 
– अमित शाह ने हापुड़ के पिलखुआ में सभा को संबोधित करते हुए आगे कहा, ”राहुल बाबा बोलें कि ढाई साल में कश्‍मीर के गोलीबारी में क्‍या फर्क पड़ा। आपको फर्क नहीं पड़ेगा क्‍योंकि आपकी आंख पर इटैलियन चश्‍मा है।”
– ”गरीब लोगों की सरकारी जमीन जो कब्‍जा की है, उसको 15 दिन के अंदर मुक्‍त कराने का काम हम करेंगे।”
– ”बीजेपी के घोषणा पत्र में हमने कहा है कि किसानों का समर्पण लोन माफ कर दिया जाएगा और उन पर लगे हुए इंटरेस्‍ट भी।”
– ”बीजेपी की सरकार बनी तो अल्‍पसंख्‍यकों के पलायन रोकने और कत्‍लखाने बंद करने पर काम होगा। करप्‍शन खत्‍म करने के लि‍ए ग्रुप-3 और 4 के इंटरव्यू बंद होंगे।”
 
मेरठ में क्‍या बोले शाह?
– इससे पहले मेरठ में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, ”सपा के गुंडों ने जमीनों पर कब्‍जा किया है। यूपी में हर रोज लगभग 24 रेप और 13 हत्‍याएं हो रही हैं।”
– ”यहां की कानून व्‍यवस्‍था चिंता की बात है। अखिलेश और राहुल यूपी की कानून व्‍यवस्‍था पर जवाब दें। दोनों शहजादे यूपी का विकास नहीं कर सकते हैं।”
– ”हम यूपी को देश का नंबर 1 राज्‍य बनाना चाहते हैं। मैं मेरठ की जनता से अपील करता हूं कि सत्‍ता में बीजेपी को लाइए। हम यूपी को को गुंडाराज मुक्त बनाकर देंगे।”
 
अखिलेश के कान पर जूं नहीं रेंगती
– अमित शाह ने अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा, ”गुरुवार को मेरठ के बाजार में एक निर्दोष युवा को मौत के घाट उतार दिया गया।”
– ”बीच बाजार में 25-30 गोलियां चल जाती हैं, 4 व्यापारी घायल हो जाते हैं, लेकिन अखिलेश यादव के कान पर जूं नहीं रेंगती है।”
– ”अभिषेक की मौत के शोक में आज हम यात्रा को यहीं रोक रहे हैं। हम इस सरकार के विरोध में घर-घर जाकर लोगों को बताएंगे।”
– बता दें, गुरुवार को गुरुवार को मेरठ में हुई व्‍यापारियों की हत्‍या के विरोध में अमित शाह ने वहां अपनी 4 किमी की पद यात्रा को कैंसिल कर दिया।
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

इलाहाबाद बनने की दिलचस्प कहानी

सरकारी दस्तावेजों में इलाहाबाद राजस्व जिला बन गया