देहरादून में गुप्ता बंधुओं की कोठी से Z श्रेणी की सुरक्षा वापस लेने की तैयारी

- in उत्तराखंड, राज्य

भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति जैकब जुमा के इस्तीफे के बाद अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में आए सहारनपुर के गुप्ता बंधुओं को उत्तराखंड में मिली जेड श्रेणी की सुरक्षा पर गहमागहमी है। मीडिया में मामला उछलने के बाद शनिवार को देहरादून के कर्जन रोड स्थित गुप्ता बंधुओं की कोठी से एक प्लस चार की गारद को तत्काल हटा दिया गया। वहीं, सुरक्षा एजेंसियों ने प्रकरण को लेकर गृह विभाग को गोपनीय रिपोर्ट भेजी है। इसी आधार पर जेड सुरक्षा वापस लेने की तैयारी है।

गुप्ता बंधुओं की कोठी से हटी पुलिस, Z श्रेणी की सुरक्षा वापस लेने की तैयारीसहारनपुर के गुप्ता बंधुओं को उत्तराखंड में राजकीय अतिथि की तरह सुविधा मुहैया होती है। वीवीआईपी की तरह काले रंग के शीशों वाली कारों से उनका काफिला निकलता रहा है। उनके संबंधों के चलते बीते बृहस्पतिवार को दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति जैकब जुमा के इस्तीफे के बाद हर किसी की नजर गुप्ता बंधुओं पर टिक गई।
उनके खर्च पर उत्तराखंड आगमन पर जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई जाती है

इनमें से एक उद्योगपति अजय गुप्ता कई दिन से दून स्थित अपनी कोठी में ठहरे थे। शुक्रवार को ही अजय गुप्ता दून से रवाना हुए। उनके जाने के बाद खुलासा हुआ कि अजय गुप्ता, उनके भाई अतुल गुप्ता को सरकार की तरफ से उनके खर्च पर उत्तराखंड आगमन पर जेड श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराई जाती है।

कोठी पर भी एक प्लस चार की गारद तैनात थी। शनिवार को सुरक्षा का मुद्दा उछला तो सुरक्षा एजेंसियां सक्रिय हो र्गइं। गुप्ता बंधुओं की कोठी पर लगी पुलिस गारद हटा दी गई, जबकि जेड श्रेणी की सुरक्षा संबंधी आदेश को लेकर गृह विभाग को गोपनीय रिपोर्ट भेजी गई है।

संभावना जताई जा रही है कि एक-दो दिन में जेड श्रेणी सुरक्षा संबंधी आदेश को भी निरस्त कर दिया जाएगा। उधर, अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) अशोक कुमार का कहना है कि यह सुरक्षा गुप्ता बंधुओं को उत्तराखंड आने पर ही मिलती थी। फिलहाल गुप्ता बंधुआें के उत्तराखंड में नहीं होने के कारण उनकी सुरक्षा को हटा लिया गया है।

You may also like

उत्तराखंड विधानसभा ने गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने का संकल्प किया पारित

उत्तराखंड विधानसभा ने गाय को राष्ट्रमाता घोषित करने