दिग्विजय बोले में किसी सर्वे पर भरोसा नही करता, तिलमिला कर निकल गए

- in मध्यप्रदेश

जबलपुर : मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि वे किसी सर्वे पर यकीन नही करते। बता दे कि कांग्रेस के मुखपत्र नेशनल हेराल्ड पर छपे सर्वे में बताया गया था कि अगर कांग्रेस का बीएसपी के साथ समझोता ना हुआ तो मप्र में बीजेपी की जीत होगी। इस सर्वे के बाद पूरे राजनीतिक गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म दिखाई दे रहा हैं।दिग्विजय बोले में किसी सर्वे पर भरोसा नही करता, तिलमिला कर निकल गए

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह इन दिनों नर्मदा परिक्रमा करने के बाद मध्यप्रदेश में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच समन्वय स्थापित करने के लिए यात्रा पर इस दौरान वे जबलपुर में मध्यप्रदेश के प्रथम मुख्यमंत्री पंडित रविशंकर शुक्ल की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल हुए और उनके योगदान को याद किया और जब कार्यक्रम खत्म करने पर बाहर आये तो कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेर लिया इस बीच हमने दिग्गी राजा से पहले तो पंडित रविशंकर शुक्ल के योगदान के बारे में पूछा तो उन्होंने बड़े अच्छे से जवाब दिया लेकिन जैसे ही पंजाब केसरी संवाददाता ने नेशनल हेराल्ड पर छपे सर्वे पर बात की तो उन्होंने ये कह कर पल्ला झाड़ लिया कि वे किसी भी सर्वे पर भरोसा ही नही करते, हम सवाल करते रहे और वो निकल पड़े आगे।

कांग्रेस के मुखपत्र नेशनल हेराल्‍ड में मध्‍यप्रदेश के आगामी चुनावों को लेकर एक सर्वे छापा गया है। जो इन दिनों कांग्रेस के लिए ही जीं का जंजाल बना हुआ है। ये सर्वेक्षण कांग्रेस की उम्मीद पर पानी फेर रहा है ।ये अखबार कांग्रेस का ही मुखपत्र है, जिसके सर्वेक्षण में राज्‍य में आगामी चुनावों में बीजेपी को बहुमत मिलने की बात कही गई है। साथ ही यह भी कहा गया है कि मध्‍यप्रदेश में कांग्रेस और बीएसपी के बीच गठबंधन होना बेहद जरूरी है, क्‍योंकि अगर गठबंधन नहीं हुआ तो प्रदेश की सत्‍ता से बीजेपी को हटाना बहुत मुश्किल होगा। इसके साथ ही गठबंधन के बाद भी बीजेपी को मध्‍यप्रदेश में बहुमत मिलने की बात कही गई है।

ऐसे में मध्यप्रदेश में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जन आर्शीवाद यात्रा निकले हुए हैं तो सर्वे से उनको और राहत मिल सकती है लेकिन दूसरी और ये कांग्रेस के लिए मुश्किल की घड़ी है।

Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

जब 8 महीने में छिन गई थी मध्यप्रदेश की पहली महिला मुख्यमंत्री की कुर्सी

मध्यप्रदेश को जब राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री