दक्षिण चीन सागर में चीन को अमेरिका ने पहली बार दी सबसे बड़ी चुनौती

दक्षिण चीन सागर में चीन द्वारा बनाए गए कृत्रिम द्वीप के पास बुधवार को एक अमरीकी युद्धपोत के पहुंचने को चीन के खिलाफ डोनल्ड ट्रंप के राष्ट्रपति बनने के बाद पहली बार अमेरिका से मिली चुनौती के रूप में देखा जा रहा है. सूत्रों के अनुसार यूएसएस डिवी युद्धपोत चीन के कृत्रिम द्वीप से 12 नौटिकल मील की दूरी पर पहुंच गया था.जबकि चीन का कहना है कि अमरीकी युद्धपोत उसके जलक्षेत्र में बिना अनुमति के आ गया था इसलिए उसकी नौसेना ने तत्काल वहां से जाने की चेतावनी दी.

दक्षिण चीन सागर में चीन को अमेरिका ने पहली बार दी सबसे बड़ी चुनौती

उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने कहा कि वह किसी अंतरराष्ट्रीय जलक्षेत्र में किसी का पक्ष न लेते हुए विवादित द्विपों में सैन्य जहाज और लड़ाकू विमान भेजता रहा है.अमेरिका सागरों और हवाई क्षेत्रों में नौवाहनों की बेरोकटोक आवाजाही का समर्थन कर रणनीतिक जलक्षेत्रों में नौवाहनों की आवाजाही सीमित करने की आलोचना करता रहा है. जबकि चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता लु कांग ने अमेरिका के इस प्रयास की निंदा कर कहा कि अमेरिका के इस क़दम से चीन की संप्रभुता और सुरक्षा हितों को नुक़सान पहुंचा है इस घटना से हवाई या समुद्री हादसे को बढ़ावा मिलेगा.

ये भी पढ़े: वज‍िर्निटी बेच कर पढ़ाई और घर, कार का सपना पूरा करना चाहती है 18 साल की यह लड़की…

गौरतलब है कि चीन पूरे दक्षिण चीन सागर पर अपना दावा करता है. दूसरी तरफ़ अन्य देश भी दक्षिण चीन सागर के द्वीपों पर दावा करते हैं.जबसे चीन ने दक्षिण चीन सागर में कृत्रिम द्वीप और सैन्य अड़्डा बनाया तब से विवादों को और हवा मिली है.चीन और अमेरिका एक दूसरे पर दक्षिण चीन सागर में सैन्यीकरण को बढ़ावा देने का आरोप लगाते रहते हैं.इसी कारण दक्षिण चीन सागर का विवाद वैश्विक चिंता बन चुका है.

=>
=>
loading...

You may also like

…तो इसलिए ISI भी चाहता है मोदी ही बने रहे भारत के पीएम

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता अपने चरम