तो इसलिए देश के अन्य राज्यों से हो रही हैं यूपी के सैनिटाइजर की मांग, जानें इसके पीछे का ये बड़ा कारण..

कोरोना संक्रमण के शुरुआती दौर में उत्तर प्रदेश मे बड़ी मात्रा मे सैनिटाइजर की जरूरत महसूस की जा रही थी और इसकी बडी किल्लत थी, लेकिन राज्य सरकार के प्रयास से न इसकी कमी दूर हो गई बल्कि अब इसे दूसरे राज्यों मे भी भेजा जाने लगा है।

पिछले 25 मार्च से लॉकडाउन शुरू होते ही राज्य सरकार ने सभी चीनी मिलों को सैनिटाइजर बनाने का निर्देश दे दिया था। सरकार के आदेश के बाद चीनी मिल इसे बनाने मे लग गयी। धीरे-धीरे इसका उत्पादन बढ़ता गया और अभी हालात यह कि उत्तर प्रदेश से अन्य राज्यों मे सैनिटाइजर भेजा जा रहा है। चीनी मिलों के अलावा अन्य इकाइयों मे भी हैंड सैनिटाइजर बनाए जा रहे हैं।

आबकारी विभाग ने हैंड सैनिटाइजर बनाने और बेचने के लिये लाइसेंस की अनिवार्यता भी समाप्त कर दी है। राज्य मे अब बडे पैमाने पर हैंड सैनिटाइजर का निर्माण हो रहा है और बाजार मे इसकी कीमत भी काफी कम हो गई है। शुरुआती दौर मे दवा दुकानदारों  ने ऊंची कीमत पर सैनिटाइजर बेचे थे।

लखनऊ के इंडियन इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी रिसर्च ने भी इसका निर्माण शुरू किया और 200 लीटर लखनऊ नगर निगम और 200 लीटर पुलिस विभाग को दिया । अब बहुत से राज्य उत्तर प्रदेश से हैंड सैनिटाइजर की मांग कर रहे हैं।

महाराष्ट्र, तमिलनाडु और गुजरात में कोरोना के सबसे ज्यादा मामले
वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (कोविड-19) महाराष्ट्र, तमिलनाडु और गुजरात में काफी तेजी से फैल रहा है और इन तीनों राज्यों में संक्रमितों की संख्या सबसे ज्यादा क्रमश: 37136, 12448 और 12140 हो गयी है तथा इन राज्यों में कुल 2,128 लोगों की मौत हो चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बुधवार सुबह जारी किये गये आंकड़ों के अनुसार देश में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 5,611 नये मामले आये जिससे कुल संक्रमितों की संख्या 106750 पर पहुंच गयी है। देश में इस संक्रमण से कुल 3303 लोगों की मौत हुई है तथा 42298 लोग स्वस्थ हुए हैं।

Ujjawal Prabhat Android App Download Link
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button