डाकू बबुली कोल के सामने सबकी सिट्टी-पिट्टी गुल, पुलिस इनकाउंटर में फिर भाग निकला पूरा गैंग

आमतौर पर ये देखा सुना गया है कि पुलिस ने डाकुओं की घेराबंदी की लेकिन अंधेरे का फायदा उठाकर वो भाग निकले। लेकिन जब दिन के उजाले में यही आलम रहे तो उसे क्या कहेंगे। सुबह से दोपहर तक पुलिस और डाकू बबुली कोल गैंग की मुठभेड़ चलती रही लेकिन पुलिस के हाथ कुछ भी नहीं लगा। बड़े आराम से डाकू दिन के उजाले में भारी भरकम फोर्स के सामने फायरिंग करते हुए भाग निकले।  
डाकू बबुली कोल के सामने सबकी सिट्टी-पिट्टी गुल, पुलिस इनकाउंटर में फिर भाग निकला पूरा गैंग
चित्रकूट मारकुंडी थाना क्षेत्र के टिकया से लेकर इटवां के बीच लगभग आधा किमी की दूरी पर डाकूओं के गैंग ने मंगलवार सुबह से ही सड़क पर आतंक फैलाना शुरू कर दिया था। पहले तो शुरुआती तीन घंटे तक लोगों की हिम्मत ही नहीं थी कि पुलिस को कोई सूचना दें। यहां तक कि ट्रक और टेंपो ड्राइवर भी डाकुओं द्वारा पीटे गए। ये तो इत्तेफाक ही था कि अनूपुर मध्यप्रदेश से आ रहे बबुली कोल डाकु गैंग द्वारा लुटे परिवार के एक सदस्य के पास छुपाने से एक मोबाइल बच गया था जिससे रिश्तेदारों को सूचना दी गई तो रिश्तेदारों ने पुलिस को फोन कर दिया।  

ये भी पढ़े: यूपी सरकार ने दिव्यांगों को पेंशन से लेकर विधायकों को मिलने वाली सहूलियतों में किया बड़ा बदलाव

डाकू शराब के नशे में झूमते हुए पुलिस को चुनौती देते रहे

आधे घंटे तक पुलिस टीम से महज दो सौ मीटर की दूरी पर डाकू शराब के नशे में झूमते हुए असलहे लहराकर पुलिस को चुनौती देते रहे लेकिन उनका बाल बांका नहीं हुआ। एक घंटे बाद पुलिस के आला अफसर अस्त्र शस्त्र लेकर मौके पर पहुंचे लेकिन डकैतों का कुछ भी नहीं कर पाए। दस-बारह डकैतों में किसी एक को पुलिस की गोली छू तक नहीं पाई। गैंग के भागने पर कई पुलिस अधिकारियों ने घोर निराशा भी जताई। बोले कि इससे अच्छा मौका नहीं था सात लाख के इनामी डाकू बबुली कोल को मारने का। बिल्कुल सामने से बच कर भाग गया डाकू बबुली कोल का गैंग। खुद पुलिस अधीक्षक ने माना कि पुलिस टीम काफी नजदीक तक पहुंच चुकी थी लेकिन भाग्य से डाकू बच गए।
=>
=>
loading...

You may also like

आयोग के दलालों से सावधान रहिये : राघवेन्द्र प्रताप सिंह 

पीसीएस परीक्षा दे रहे प्रतियोगियों को अगर अपनी