Home > Mainslide > जियो ने दिया आइडिया को सबसे बड़ा झटका, 326 करोड़ का घाटा

जियो ने दिया आइडिया को सबसे बड़ा झटका, 326 करोड़ का घाटा

नई दिल्ली : टेलिकॉम सेक्टर में छिड़े प्राइस वॉर का देश की तीसरी सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी आइडिया सेल्युलर पर बड़ा असर पड़ा है। आइडिया को वित्त वर्ष 2016-17 की चौथी तिमाही में 325.6 करोड़ रुपये का घाटा हुआ है।
जियो ने दिया आइडिया को सबसे बड़ा झटका, 326 करोड़ का घाटा

जबकि उसका कारोबार भी 13.7 प्रतिशत घटकर 8,194.5 करोड़ रुपये रह गया है। आइडिया सेल्युलर को पहली बार सालाना आधार पर 2016-17 में 404 करोड़ रुपये का घाटा हुआ। इससे पिछले वर्ष उसने 2,714 करोड़ रुपये का मुनाफा हासिल किया था। 

सितंबर 2016 में रिलायंस जियो इन्फोकॉम की लॉन्चिंग के बाद आइडिया को लगातार दूसरी तिमाही में नुकसान उठाना पड़ा है। कंपनी ने अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में पहली बार 383.87 करोड़ रुपये का घाटा दर्ज किया था जबकि इसी पिछली अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में उसे 659.35 करोड़ रुपये का लाभ हुआ था।

ये भी पढ़े:  रजनीकांत को हाजी मस्तान के बेटे ने ने दी बड़ी धमकी

आइडिया ने अपने एक बयान में कहा, ‘इंडस्ट्री में आई नई कंपनी (रिलायंस जियो) की ओर से फ्री वॉइस और मोबाइल डेटा ऑफर करने की वजह से भारतीय वायरलेस इंडस्ट्री वित्त वर्ष 2016-17 के उत्तरार्ध में बुरी तरह प्रभावित हुई। अक्टूबर-अप्रैल 2017 की अवधि को ‘पीरियड ऑफ टेलिकॉम डिसकंट्यूनिटी’ माना जा सकता है। यह स्थाई तौर पर मोबिलिटी बिजनस के पैमाने बदलने वाला है।’ 

रिलायंस जियो ने पिछले साल सितंबर में लॉन्चिंग के साथ ही टेलिकॉम मार्केट में तहलका मचा दिया। जियो ने अपने प्रमोशनल ऑफर के तहत वॉइस कॉल, 4G मोबाइल डेटा और अपने सारे ऐप्स 31 दिसंबर 2016 तक के लिए फ्री कर दिए और फिर न्यू इयर ऑफर के तहत इसे मार्च तक बढ़ा दिया। इस वजह से देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी एयरटेल को भी लगातार दूसरी तिमाही में भारी नुकसान उठाना पड़ा है।

 

Loading...

Check Also

मध्यप्रदेश के लिए BJP ने जारी किया दृष्टि पत्र, किसानों और आधी आबादी पर 'दृष्टि'

मध्यप्रदेश के लिए BJP ने जारी किया दृष्टि पत्र, किसानों और आधी आबादी पर ‘दृष्टि’

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी ने घोषणापत्र जारी कर दिया है। इसे दृष्टि …

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com