जानें मास्टरबेशन करने वाली और ना करने वाली महिलाओं में ये बड़ा अंतर, लड़को के लिए दोनों…

मास्टरबेशन की जब बात आती है तो कई लोग इस बात को नहीं समझते कि यह खुद को प्यार करने का एक तरीका है। सच कहें तो कई बार खुद को खुशी देना असली एक्सपीरिएंस से कहीं ज्यादा बेहतर होता है। ऐसे आप खुद के शरीर को बेहतर तरीके से समझ पाती हैं।

Loading...

कई फायदे होने के बाद भी मास्टरबेशन को अच्छा नहीं समझा जाता। जानकारी की कमी और इससे जुड़े नकारात्मक विचारों के बाद खुद को खुश करने की इस कला को लोग गलत नजर से भी देखते हैं। अगर आपको भी ऐसा लगा है तो यहां जानें मास्टरबेशन का आपके शरीर पर क्या असर होता है।

जानिए कैसे करें अपने से बड़ी उम्र की महिलाओं को डेट पर ले जाने के लिए राजी, नहीं कर पाएंगी ‘ना

मास्टरबेट करने से आपकी पेल्विक मसल्स मजबूत बनती हैं। ये मसल्स यूरिन कंट्रोल करने में भी मदद करती हैं।मास्टरबेशन के बाद फील-गुड हॉर्मोन्स रिलीज होते हैं जो कि दिमाग के हायपोथैलमस को ऐक्टिवेट करते हैं। ऐसा होने से आप संतुष्ट और खुश महसूस करते हैं।

यह मजाक नहीं बल्कि इसे वजाइनल डिटॉक्स कहते हैं। ऐसा तब होता है जब आप उत्तेजित होती हैं और आपका सर्विक्स खिंचता है, इससे म्यूकस अंदर पहुंचता है। यह प्रक्रिया टेंटिंग नाम से जानी जाती है जो सर्वाइकल इन्फेक्शंस से बचाती है।   

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *