जानिए भारत की मिसाइल शक्ति

- in राष्ट्रीय

नयी दिल्ली. भारत ने आज इंटर बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 का सफल परीक्षण किया. ओडिशा के अब्दुल कलाम आइलैंड के इंटेग्रेटिड टेस्ट रेंज (आईटीआर) से इसका सफल परीक्षण हो गया है. यह छठवीं बार है जब मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है. परीक्षण 3 जून की सुबह 9 बजकर 48 मिनट पर किया गया. भारत की अन्य मिसाइल के बारे में विस्तार से जानते हैं.

अग्नि-Iप्रथम परीक्षणः जनवरी 2002इस मिसाइल का वजन 12 टन है और इसकी लंबाई 15 मीटर है. इसकी मारक क्षमता 700-1200 किलोमीटर है. इस मिसाइल के संचालन अधिकार स्ट्रेटजिक फोर्स कमांड के पास है.

अग्नि-2प्रथम परीक्षणः अप्रैल 1999इस मिसाइल का वजन 18 टन है और इसकी मारक क्षमता 2000-2500 किलोमीटर है. इस मिसाइल के सफल परीक्षण ने चीन और पाकिस्तान की नींदें उड़ा दी थीं. क्योंकि इसकी मारक क्षमता में दोनों देशों के कई बड़े शहर आते हैं.

अग्नि-3प्रथम परीक्षणः जुलाई 2006इस मिसाइल का वजन 48 टन है और इसकी लंबाई 17 मीटर. इस मिसाइल की मारक क्षमता 3500 किलोमीटर है. यह अपने तरह का विश्व के सबसे घातक हथियारों में से एक है. यह मिसाइल न्यूक्लियर क्षमता से भी संपन्न है.

अग्नि-4प्रथम परीक्षणः नवंबर 2011इस मिसाइल का वजन 17 टन है और इसकी लंबाई 20 मीटर. इस मिसाइल का निर्माण अग्नि-II और अग्नि-III के बीच की कड़ी को पूरा करने के लिए किया गया था.

अग्नि-5प्रथम परीक्षणः अप्रैल 2012इस मिसाइल का वजन 49 टन है और इसकी लंबाई 17.5 मीटर.5000 किलोमीटर तक मार करने वाली अग्नि-5 भारत की पहली इंटर-कॉन्टिनेन्टल बैलिस्टिक मिसाइल है.

आकाश मिसाइल प्रथम परीक्षणः 1990आकाश मिसाइल का वजन 720 किलोग्राम है और इसकी लंबाई 5.78 मीटर. जमीन से हवा में मार करनेवाले मिसाइल आकाश की तुलना अमेरिका के पेट्रियोट मिसाइल सिस्टम से की जाती है. एक समय में यह मिसाइल 8 भिन्न लक्ष्य पर निशाना साध सकता है.

 

ब्रह्मोस मिसाइल प्रथम परीक्षणः 2001ब्रह्मोस मिसाइल का वजन 3000 किलोग्राम है और इसकी लंबाई 8.4 मीटर. ब्रह्मोस की मारक क्षमता 290 किलोमीटर है. इसकी रफ्तार अमेरिका के सबसोनिक तोमाहावक क्रूज मिसाइल से तीन गुनी अधिक है.

धनुष मिसाइल : धनुष मिसाइल स्वदेशी तकनीक से निर्मित पृथ्वी प्रक्षेपास्त्र का नौसैनिक संस्करण है. यह प्रक्षेपास्त परमाणु हथियारों को ले जाने की क्षमता रखता है.

नाग मिसाइल प्रथम परीक्षणः 1990इस मिसाइल का वजन 42 किलोग्राम है और इसकी लंबाई 1.90 मीटर. ‘पृथ्वी ’ एवं ‘अग्नि ’ जैसे स्वदेशी मिसाइलों की श्रृंखला में ‘नाग’ पांचवा प्रक्षेपास्त्र है. इस मिसाइल की विशेषताओं में ‘टॉपअटेक- फायर एण्ड फोरगेट’ तथा सभी मौसम में फायर करने की क्षमता शामिल है.

पृथ्वी प्रथम परीक्षणः 1988भारत के मिसाइल प्रोग्राम के अंतर्गत निर्माण किया जाने वाला पहला मिसाइल था पृथ्वी. परमाणु संपन्न तथा 150-350 किमी की रेंज तक सतह से सतह पर मार करने वाला यह मिसाइल सेना के तीनों अंगों का अभिन्न हिस्सा है.

शौर्य मिसाइल प्रथम परीक्षणः 2008शौर्य मिसाइल का वजन 42 किलोग्राम है और इसकी लंबाई 1.90 मीटर. इस मिसाइल की मारक क्षमता है 750 से 1900 किलोमीटर है. यह भारत का पहला हाइपर सुपर सॉनिक मिसाइल है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

आधार की वैधता पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को सुनाएगा फैसला

नई दिल्लीः सुप्रीम कोर्ट बुधवार को आधार की वैधता पर