Home > धर्म > जानिए, घर में एक्वेरियम रखने की क्या होती है सही जगह, मछली मरने पर करें ये उपाय

जानिए, घर में एक्वेरियम रखने की क्या होती है सही जगह, मछली मरने पर करें ये उपाय

आज के दौर में कई घरों में फिश एक्वेरियम रखने का प्रचलन काफी बढ़ चुका है। फेंगशुई के अनुसार, एक्वेरियम न सिर्फ खुशी देता है, बल्कि इनसे घर के सदस्यों के ऊपर आने वाली समस्त विपत्तियां टलती हैं। घर में धन-संपत्ति के आगमन में निरंतरता बनी रहती है। हालांकि, फेंगशुई के कुछ नियम हैं, जिनका पालन करते हुए एक्वेरियम रखा जाए तभी इसका पूरा लाभ मिलता है।जानिए, घर में एक्वेरियम रखने की क्या होती है सही जगह, मछली मरने पर करें ये उपाय

ऐसी मान्यता है कि घर पर रंगीन मछलियां पालने से घर के सदस्यों पर आने वाली मुसीबतें टल जाती हैं। फेंगशुई शास्त्र कहता है कि मछली धन को आकर्षित करती है और किसी भी आपदा को अपने ऊपर ले लेती है। घर या ऑफिस में फिश एक्वेरियम रखते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए आइए जानते हैं।

    • फेंगशुई शास्त्र के अनुसार एक्वेरियम को पूर्व, उत्तर और पूर्व-उत्तर की दिशा में रखना शुभ माना जाता है।
    • दांपत्य जीवन में आपसी प्रेम बनाए रखने के लिए इसे मुख्य द्वार के बाईं ओर रखें। दाईं ओर रखने से घर के पुरूष का मन चंचल होता है।
    • इसे किचन और बेडरूम में नहीं रखना चाहिए। इस जगह पर एक्वेरियम रखने से नकारात्मक ऊर्जा फैलती है।
    • एक्वेरियम से घर पर सकारात्मक ऊर्जा को बढ़ाने के लिए समय-समय पर इसका पानी बदलते रहना चाहिए।
    • मछलियों की संख्या नौ होनी चाहिए। इनमें से 8 मछली लाल और सुनहरे रंग की और एक मछली काले रंग की होनी चाहिए।
    • फेंगशुई के अनुसार, काली रंग की मछली से घर के लोगों पर किसी भी तरह की बुरी नजर नहीं लगती है।
  • एक्वेरियम में अक्सर समय-समय पर मछलियां मर जाती है। मरी हुई मछली को तुरंत निकालकर नदी या तालाब में बहा देना चाहिए।
  • फेंगशुई के अनुसार जब कोई मछली मरती है तो अपने साथ घर पर आने वाली विपत्तियों को साथ लेकर चली जाती है
Loading...

Check Also

कार्तिक के इस महीने में ये पौधा लगाना होता है सबसे शुभ, देता है अपार धन

कार्तिक के इस महीने में ये पौधा लगाना होता है सबसे शुभ, देता है अपार धन

हिंदु धर्म में तुलसी काे सबसे पवित्र पाैधा माना गया है। वास्तव में यही एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com