जानिए क्या होता है मांगलिक दोष

- in धर्म

व्यक्ति के जीवन में अनेकों प्रकार के उतार चढाव आते है. जीवन में गृह दोष को लेकर भी अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़ता है, इन्ही दोषो के चलते यह एक मांगलिक दोष जिसे हम मंगल दोष के नाम से भी जानते है, ज्योतिष शास्त्र के माध्यम से अनोकों ज्योतिषाचार्यों का मत है की जिन लोगों को मंगल दोष होता है .उनकी शादी में बहुत सी समस्या आती है. वर को वधु व वधु को योग्य वर नहीं मिलता. शादी को लेकर परेशान से रहते है.उनके मन में यह एक चिंता का विषय सा बन जाता है.जानिए क्या होता है मांगलिक दोष

इस मांगलिक दोष के कारण होने वाले दुष्परिणामों और चेतावनियों की वजह से आम आदमी में इसे लेकर बहुत चिंता सी जग जाती है । पर आप इस बात का विशेष रूप से ध्यान दें की यहां मांगलिक स्त्री-पुरुष से विवाह होने पर हमेशा परिणाम अशुभ नहीं होते।

ज्योतिषाचार्यों ने बताया है की यदि लड़का की कुंडली में मांगलिक दोष हे तो उसका विवाह उसी लड़की से होगा जिसकी कुंडली में भी मांगलिक दोष हो . जिससे उनके रिश्ते में ताल मेल बना रहे. और उनका जीवन सुखद व्यतीत हो .और यदि ये दोनों में से एक की कुंडली में यह दोष है और एक की में नही तो उनके विवाहित जीवन में अनेकों समस्या ,झंझट . व आपसी अनबन बनी रहती है जीवन में अशांति सी रहती है .

शास्त्रों के अनुसार मान्यता है कि जन्मकुंडली के यदि मंगल मंगल ग्रह 1, 4, 7, 8 या 12 घर में बैठा हो तो स्त्री या पुरुष मंगल दोष से युक्त समझे जाते हैं।

इस दोष के लिए कुछ विशेष उपाय निम्न हैं- 

1 .माना जाता है कि अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में मंगल दोष है तो उसकी शादी किसी मांगलिक व्यक्ति से ही करनी चाहिए।

2 .यदि मांगलिक दोष वाला जोड़ा नही मिल रहा है तो या संभव ना हो तो उसका विवाह ‘पीपल’ विवाह, कुंभ विवाह, के रूप में कर सकते है यह एक टोटका सा होता है आपको मंगल यंत्र का पूजन भी करना चाहिए .अब जातक की शादी अच्छे ग्रह योगों वाले जातक से कर सकते । 

3 .मांगलिक दोष से मिक्त होने के लिए गणेश जी का पूजन बड़े ही विधि विधान से करना चाहिए क्योकि गणेश जी विघ्न हर्ता है .

4 . मंगल दोष को कम करने के लिए गणेश जी की केशरिया मूर्ति की स्थापना और उसकी पूजा करनी चाहिए।

5 . यदि आप दान – पुण्य आदि धर्म कर्म करते है तो आपके इस मंगल दोष का निवारण हो सकता है . 

6 . मांगलिक दोष वाले जातक को लाल कपड़े का दान देना चाहिए। इसके अलावा अगर सामर्थ्य हो तो रक्तदान भी करना चाहिए।

इस बात का विशेष ध्यान रहे की आपके द्वारा दिया गया दान निर्स्वाथ भाव का होना चाहिए बड़े ही उदार भाव से दान धर्म करना चाहिए। 

ज्योतिषआचार्यों का मत है की मांगलकि दोष को समाप्त करने के लिए मंगल यंत्र की पूजा भी करनी चाहिए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

भाग्यशाली स्त्रियों के शुभ लक्षण का निशान देखकर, आपको बिलकुल भी नहीं होगा यकीन…

कहते है की जो स्त्रियों होती है हमारे