जानिए कैसे मोदी-शाह के दुलारे बने त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री बिप्लब देब

- in राष्ट्रीय

बिप्लब देब आज से त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री बन गए हैं। वह भाजपा के वर्तमान में त्रिपुरा के अध्यक्ष भी हैं। बिप्लब की मुख्यमंत्री बनने की कहानी तो 2015 में तब ही लिख दी गई थी जब उनकी क्षमता में विश्वास जताते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें त्रिपुरा के लिए जन संपर्क अभियान का प्रमुख बनाया था। उनकी कार्यकुशलता को देख शाह ने उन्हें 6 जनवरी 2016 को त्रिपुरा भाजपा का अध्यक्ष बनाया।

जानिए कैसे मोदी-शाह के दुलारे बने त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री बिप्लब देबबिप्लब का जन्म 29 नवंबर 1971 को गोमती त्रिपुरा के राजधर नगर में हुआ था। उनकी परिवारिक पृष्ठभूमि भी राजनीतिक रही है, इसलिए बचपन से ही बिपल्ब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए थे।

संघ में विभिन्न जिम्मेदारियों का निर्वाह करते हुए बिप्लब ने संघ की प्रथम वर्ष शिक्षा भी ग्रहण की है। उनके पिता हीरूधन देब त्रिपुरा में जनसंघ के संस्थापक सदस्यों में एक रहे।

जनसंघ के टिकट पर हीरूधन ने तीन दफे चुनाव भी लड़ा था। दीन दयाल उपाध्याय और केशव राम बलिराम हेडगेवार को अपना आदर्श मानने वाले बिप्लब का संघ के प्रचारकों से बेहद लगाव रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उनका संपर्क उस वक्त हुआ था जब मोदी भाजपा के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री थे, तब से ही मोदी उनके आदर्श बन गए। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की संगठन क्षमता के बिप्लब बेहद कायल हैं। शाह की संगठन क्षमता ने उन पर खासा प्रभाव छोड़ा है। संगठन में शाह को अपना रोल मॉडल मानते हुए ही बिप्लब ने त्रिपुरा में जमीनी स्तर पर संगठन को मजबूत बनाया और 42 हजार पन्ना प्रमुखों की फौज तैयार की।

You may also like

लापता जवान की निर्ममता से हत्या, शव के साथ बर्बरता, आॅख भी निकाली

दो दिन पहले बार्डर की सफाई दौरान पाकिस्तानी