चंद लोगों की परवाह नहीं पूरा देश चाहता है मुझेः सानिया मिर्जा

Sania_mirza-15-09-2015-1442319939_storyimageकभी तिरंगे के अपमान के लिए तो कभी पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से शादी करने के लिए सानिया मिर्जा का विवादों के साथ चोली-दामन का साथ रहा है। मैदान पर अपने बेमिसाल प्रदर्शन के साथ-साथ विवादों के कारण भी चर्चा में रहने वाली सानिया इन बातों की परवाह नहीं करती कि चंद लोग उनके बारे में क्या कहते हैं क्योंकि ऐसे लोगों की तुलना में देश में उनके चाहने वालों की संख्या कई ज्यादा है।

विवादों के साथ जुड़ी रही हैं सानिया…

इसे संयोग कहा जा सकता है कि लेकिन यूएस ओपन में उनके दोनों खिताब से पहले बेवजह के विवाद पैदा हो गए थे। उन्होंने दो दिन पहले यूएस ओपन के महिला युगल का खिताब जीता। इससे ठीक पहले एक खिलाड़ी ने उनको प्रतिष्ठित खेल रत्न दिए जाने पर सवाल उठाए थे और उनके खिलाफ कोर्ट में याचिका दायर कर दी थी। पिछले साल भी ब्रूनो सोरेस के साथ यूएस ओपन मिक्स्ड डबल्स का खिताब जीतने से पहले एक राजनीतिज्ञ ने उन्हें नवगठित राज्य तेलंगाना का ब्रांड एंबेसडर बनाए जाने का विरोध किया था।


‘विवादों से नहीं पड़ता फर्क’

सानिया ने एक स्पेशल इंटरव्यू में कहा, ‘सही में मैं इसकी परवाह नहीं करती। मैं अक्सर न्यूजपेपर को नहीं पढ़ती हूं। मैं केवल टेनिस खेलती हूं। मैं अपना बेस्ट करने की कोशिश करती हूं और इससे मुझे खुशी मिलती है। यही वजह है कि मैं जानती हूं कि सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कैसे किया जाता है। मैं भाग्यशाली हूं कि मैं जो करती हूं वह अच्छा करती हूं और इसलिए मैं जीत हासिल करती हूं। इसके अलावा मैं इस बात पर ध्यान नहीं देती कि चंद लोग क्या कहते हैं, मैं जानती हूं कि देश के बाकी लोग मुझे चाहते हैं।’

इससे पहले भी उनका नाम कई बार विवादों में घसीटा गया और इनमें से कई बेमतलब के विवाद थे। सानिया ने जबसे मार्टिना हिंगिस के साथ जोड़ी बनाई है तब से उन्हें सफलताएं मिली हैं और वे इसका पूरा आनंद ले रही हैं। उन्होंने कहा कि स्विस खिलाड़ी के साथ अगले सीजन में भी उनकी जोड़ी बनी रहेगी। उन्होंने कहा, ‘हां, हम अगले साल भी साथ में खेलेंगे।’

ब्राजील के ब्रूनो सोरेस के साथ मिक्स्ड डबल्स में जोड़ी बनाने को लेकर हालांकि वह पक्के तौर पर कुछ कहने की स्थिति में नहीं हैं। उन्होंने सोरेस के साथ 2014 यूएस ओपन का खिताब जीता था।
उन्होंने कहा, ‘अभी मैं ब्रूनो को लेकर पक्के तौर पर कुछ नहीं कह सकती। हमें कुछ चीजों पर गौर करना होगा।’

यूएस ओपन में उन्होंने खिताबी जीत तक एक भी सेट नहीं गंवाया। अपने इस दबदबे वाले प्रदर्शन के बारे में सानिया ने कहा, ‘हम अच्छा खेल रहे हैं। हार्डकोर्ट पर खेलना हम दोनों को पसंद है। यह मेरा पसंदीदा कोर्ट है। हर अगले मैच में हमारा प्रदर्शन बेहतर होता गया और इस तरह से हमने खिताब जीता।’

‘सुधार की गुंजाइश अभी भी’
सानिया और मार्टिना ने इस सीजन में चार खिताब जीते और उन्हें बहुत कम सेट गंवाए। इस 28 वर्षीय खिलाड़ी से पूछा गया कि उनकी भागीदारी में क्या सुधार की जरूरत है, उन्होंने कहा, ‘मैं निश्चित रूप से नेट पर अपने खेल में सुधार कर सकती हूं और मार्टिना कोर्ट के पिछले हिस्से के खेल में सुधार कर सकती है। हम पहले ही नंबर एक टीम हैं और व्यक्तिगत रैंकिंग में मैं नंबर एक हूं लेकिन सुधार की गुंजाइश हमेशा रहती है।’

ओलंपिक में मेडल जीतने का मौका
सानिया अभी सभी ग्रैंडस्लैम में खिताब (ऑस्ट्रेलियाई और फ्रेंच ओपन में मिक्स्ड डबल्स, विंबलडन और यूएस ओपन में महिला युगल) जीत चुकी हैं। इसके अलावा उन्होंने एशियाई खेलों और राष्ट्रमंडल खेलों में भी मेडल जीते हैं। अगले साल जब वह 29 वर्ष की हो जाएंगी तब उनके पास रियो ओलंपिक में मेडल जीतने का अच्छा मौका रहेगा। लंदन ओलंपिक से पहले जोड़ी बनाने को लेकर विवाद पैदा हो गया था इसलिए सानिया से जब पूछा गया कि वह इस बार किसके साथ जोड़ी बनाना चाहेंगी तो उन्होंने कहा कि वह प्रतियोगिता शुरू होने से कुछ दिन पहले इस पर फैसला करेंगी लेकिन उन्हें विश्वास है कि इस बार भारत के मिक्स्ड डबल्स में मेडल जीतने की अच्छी संभावना है।

‘ओलंपिक टीम को लेकर फिलहाल फैसला नहीं’
उन्होंने कहा, ‘रियो ओलंपिक में मिक्स्ड डबल्स में हमारे मेडल जीतने की अच्छी संभावना है। जाहिर तौर पर यह हमारे पास अच्छा मौका होगा। लेकिन हमें इंतजार करना होगा। इससे पहले काफी विचार करना होगा। हम तब सर्वश्रेष्ठ टीम पर फैसला करेंगे। अभी इसमें एक साल बचा है और मैं इस बारे (टीम के बारे में) नहीं सोच रही हूं। जब प्रतियोगिता पास आएगी तो हमारे सामने स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।’

…तो शानदार होगा मेरे लिए’
सानिया की निगाह अब साल की आखिरी चैंपियनशिप पर लगी है जिसे उन्होंने पिछले साल कारा ब्लैक के साथ मिलकर जीता था। उन्होंने कहा, ‘यह साल मेरे लिए बहुत अच्छा रहा। अगर मैं मार्टिना के साथ अपना खिताब बचाए रखती हूं तो यह शानदार होगा। इससे पहले मुझे बीजिंग, शंघाई और ग्वांग्क्षू में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। यह मेरा अब तक का सर्वश्रेष्ठ सीजन रहा। मैंने लगातार दो ग्रैंडस्लैम खिताब जीते।’

सानिया हैदराबाद में अपनी छोटी अनम की सगाई में शामिल होने के बाद जल्द ही डब्ल्यूटीए टूर्नामेंट के लिए चीन रवाना हो जाएगी।

 
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button