घोड़े की इस एक नाल के हैं अनेक चमत्कारी फायदे, जानकर आप हो जाएंगे हैरान

- in धर्म

घोड़ा शक्ति का प्रतीक है, इसमें गजब का स्टेमिना होता है। घोड़े से ही हार्स पवार बनाया गया है। यह जितना ताकतवर होता है, उससे कहीं ज्यादा वफादार व समझदार होता है। प्रचानी काल में लोग घोड़े की सवारी करते थे। घोड़ा अपने मालिक का इतना वफादार होता है, कि उसे विपरीत परिस्थितयों में भी स्वयं की चिंता छोड़कर अपने मालिक की रक्षा करता है। घोड़ा धावक होता है, इसलिए उसके पंजों की रक्षा के लिए लोहे की एक नाल लगाई जाती है, जिससे उसके पंजे व नाखूनों को नुकसान न पहुंचे। जब नाल घिस जाती है, तो अपने आप गिर जाती है। घोड़े की इस नाल के एक नहीं अनेक चमत्कारी फायदे हैं।घोड़े की इस एक नाल के हैं अनेक चमत्कारी फायदे, जानकर आप हो जाएंगे हैरान

नजर दोष से पीड़ित हैं

तो पथरी-यदि आप काले घोड़े की नाल को अॅगूठी में बनवाकर मध्यमा उॅगली में धारण कर लें तो ऐसी सम्भावना है कि भविष्य में आपको पथरी की शिकायत नहीं होगी।

नजर व टोटके का निवारण-

अगर कोई जातक नजर दोष या किसी के द्वारा कराये गये टोटके से परेशान है तो घोड़े की नाल गंगाजल में धोकर मकान का मुख पूर्व हो तो रविवार को, पश्चिम हो तो शुक्रवार को सिन्दूर व तेल से पूजन करके द्वारा पर ठोंक देंने से घर व परिवार पर नजर दोष नहीं लगता है और न किसी बुरे टोटके का असर होता है।

हाथ-पैर में लोहे या तांबे का छल्ला पहनाएं

बच्चों का टोटकों से बचाव व दांत सरलता से निकलने हेतु-

हाथ-पैर में लोहे या तांबे का छल्ला पहनायें, गले में चन्द्रमा या सूर्य बनाकर पहनाने से या राठे के दल को छेद कर पहनाने से नजर, टोना-टोटका आदि अनेक व्याधियों का बच्चों पर प्रभाव नहीं पड़ता है एवं दाॅत सरलता से निकल आते है।

वायु दोष समाप्त के लिए-

एक गिलास में पानी भरकर रात्रि को रख दें, उसमें एक घोड़े की नाल डाल दें और फिर उस जल को प्रातःकाल सेंवन कर लें। ऐसा लगातार करने से गैस व हाजमें की समस्या समाप्त हो जाती है। 

गैस की समस्या रविवार के दिन

नाव की कील और काले घोड़े की नाल प्राप्त करके उसका कड़ा बड़ा बनवा लें। यह कड़ा दाहिने हाथ में पहनने से गैस की समस्या समाप्त हो जाती है।

पक्षघात रोकने के लिए-

रविवार को पुष्य नक्षत्र में काले घोड़े की नाल की अॅगूठी धारण करने से पक्षघात की समस्या नहीं होती है।

दरिद्रता दूर करने के लिए-

घोड़े की नाल को शनिवार को लाकर घर में कहीं छिपा दें, दूसरे दिन रविवार को इसमें थोड़ा सा टुकड़ा काट कर ताॅबा मिलाकर अॅगूठी बनवाकर पहनने से घर की दरिद्रता दूर हो जाती है।

शनि की साढ़े-साती चल रही हो तो…

शनि के प्रकोप से बचने के लिए-यदि आप शनि की साढ़े-साती, ढैयया या दशा से परेशान है तो घोड़े की नाल का एक छल्ला बनवाकर फिर उसे शनि के मन्त्रों से शुद्ध करके मध्यमा उॅगली में धारण करने से शनि का प्रकोप समाप्त हो जाता है। व्यापार में वृद्धि के लिए-यदि आप काफी प्रयास करते है उसके बाद आपकी प्रगति नहीं हो रही है। ऐसा लगता है जैसे आपके व्यवसास को किसी ने बाॅध दिया हो तो घोड़े की नाल को शनि म़न्त्र से अभिमंत्रित करके व्यवसाय के मुख्यद्वार पर टाॅग दें। ऐसा करने से नजर, टोना-टोटका आदि का प्रभाव निष्क्रिय हो जाता है और आपके व्यापार में वृद्धि होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

एक बार महादेवजी धरती पर आये, फिर जो हुआ उसे सुनकर नहीं होगा यकीन…

एक बार महादेवजी धरती पर आये । चलते