Home > धर्म > घर के मंदिर में अवश्य होनी चाहिए ये चीजें, तभी बरसती है माँ लक्ष्मी की कृपा…..

घर के मंदिर में अवश्य होनी चाहिए ये चीजें, तभी बरसती है माँ लक्ष्मी की कृपा…..

इस बात से तो आप सभी अवगत ही होगे कि मनुष्‍य के जीवन में हर समय एक जैसा नही होता है, जीवन में कई बदलाव देखने को मिलते है, क्‍योंकि मनुष्‍य के जीवन में निरतंर परिवर्तन होते रहते है। हालांकि जब भी मनुष्‍य अधिक परेशान होता है, तो वह ईश्‍वर की शरण में जाता है, और उनकी भक्ति में लीन हो जाया करता है लेकिन फिर भी भगवान् इनकी नहीं सुनते पर क्या आपको पता है की ऐसा क्यों है तो आज हम अपनी इस पोस्ट में उसी का जिक्र करने वाले है ,जिनकी वजह से आपको भगवान् की पूरी कृपा नहीं मिल पाती !

आचमन- पूजा घर में हमें चाहिए की आचमन हेतु तांबे के बर्तन में जल और तुलसी की पत्ती रखे और पूजा के उपरांत इसको ग्रहण करे और घर के अन्य लोगो को भी बाटे ,इससे आपके अन्दर पवित्रता आएगी ,और मन सत्य की ओर झुकेगा ,भगवान् से नजदीकी बढेगी!

पंचामृत- इस शब्द से ही समझ गए होंगे की यह कितना पवित्र और उपयोगी है जी हाँ यह 5 अमृत का मिश्रण है जो की दिव्य होता है इसमें दूध ,घी,शहद ,दही और गुण होता है जो की बहुत ही लाभकारी है,इसका पूजा के दौरान भगवान् को भोग लगाया जाता है और पूजा के नाद सभी में बाँट दिया जाता है !

गरुड़ घंटी : इसको बजाने से नकारात्मक ऊर्जा दूर होती है । इसलिए सुबह की पूजा और शाम की आरती में घंटे या घंटा जरूर बजाएं।

चंदन- इसको शांति और शीतलता का प्रतीक माना जाता है इसे हम लोग मस्तिष्क पर लगाते है इससे मस्तिष्क ठंडा और शांत रहता है ये हमें भगवान् के नजदीक ले जाती है !

रोली चंदन- इसको हम मस्तक पर लगते है ,पूजा के बाद अपने साथ भगवान् के आशीर्वाद के रूप में इसे लगते है !

अक्षत- इसका अर्थ है बिना टूटे हुए चावल। यह बहुत ही मेहनत से बनाया जाता है। इसका अर्थ होता है कि आप ईश्वर से संपन्नता की अभिलाषा करते हैं।

साल के आखिरी महीने में हुआ राहु का महा राशि परिवर्तन, अब ये राशि वाले देगे मुकेश अंबानी को टक्कर

धूप- धूप सुगंध फैलाती है और यह आपके मन और मस्तिष्क को शांत करती है और इससे आपके मन और मस्तिष्क में सकारात्मक विचार लाती

नैवेद्य- ये भगवान् को चढाने वाला प्रसाद होता है इसमें हम मिठाई ,लड्डू आदि का भोग लगते है इससे भगवान् की कृपा हमें प्राप्त होती है !

दीपक : यह अंधेरे से प्रकाश की ओर ले जाता है । यह हमारे जीवन के अंधकार को दूर कर प्रकाश भरता है और हम ईश्वर के नजदीक पहुँचने लगते है !

Loading...

Check Also

निःसंतानों को संतान देने वाला है पुत्रदा एकादशी का व्रत,

हर महीने के कृष्ण और शुक्ल पक्ष की ग्यारहवीं तिथि को एकादशी का व्रत किया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com