गोवा में चौंकाने वाला मामला : शुद्धिकरण समारोह आरएसएस के अंधविश्वास का नतीजा

पणजी। गोवा में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। बताते चले कि दिवंगत मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर से जुड़े ‘शुद्धिकरण’ मामले की सरकार ने जांच के आदेश दिये हैंं। सूत्रों के मुताबिक, पणजी स्थित राजकीय कला अकादमी में शनिवार को उस स्थान का शुद्धिकरण किया गया। जहां पर्रिकर के पार्थिव शरीर को रखा गया था। मामला प्रकाश में आने के बाद हड़कंप मच गया है। अब सरकार ने मामले की जांच के आदेश दिये हैं।
पणजी स्थित राजकीय कला अकादमी परिसर में कुछ व्यक्तियों ने उस जगह का शुद्धिकरण कराया
गोवा के कला एवं संस्कृति मंत्री गोविंद गावड़े ने बताया कि उन्होंने मीडिया द्वारा दी गई उन खबरों के आधार पर जांच के आदेश दिये हैं। जिनमें कहा गया था कि अकादमी परिसर में कुछ व्यक्तियों ने उस जगह का शुद्धिकरण कराया था। जहां मनोहर पर्रिकर का पार्थिव शरीर रखा गया था। गावड़े ने कहा कि मैंने इन गतिविधियों को गंभीरता से लिया है। हम सरकारी इमारतों में अवैज्ञानिक गतिविधियों को बढ़ावा या संरक्षण नहीं दे सकते हैं।
ये भी पढ़ें :-उत्तर प्रदेश व बिहार में तीन-तीन लोकसभा सीटों पर लड़ेगी आप 
कांग्रेस प्रवक्ता सुनील कवथनकर ने रविवार को कहा कि मनोहर पर्रिकर के पार्थिव शरीर को जिस स्थान पर आमजन के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था, उस स्थान का कथित तौर पर शुद्धिकरण किया गया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (आएसएस) के अंधविश्वास की विचारधारा का नतीजा है, जिसका भाजपा सरकार समर्थन कर रही है।
राज्य सरकार से इस मुद्दे पर एक व्यापक नीति लाने की मांग की
उन्होंने कहा कि शुद्धिकरण विवाद से सरकारी कार्यालयों व सरकारी कार्यक्रमों में धार्मिक अनुष्ठानों व परंपराओं के प्रदर्शन को लेकर भानुमति का पिटारा खुल गया है। उन्होंने राज्य सरकार से इस मुद्दे पर एक व्यापक नीति लाने की मांग की। कवथनकर ने कहा कि शुद्धिकरण समारोह उसी आरएसएस की मानसिकता का परिणाम है, जिसका देश में शासन है, जो अंधविश्वास को बढ़ावा दे रही है। कला अकादमी में बीते रोज की घटना उसी विचारधारा का परिणाम है।
शुद्धिकरण 18 मार्च को जहां मनोहर पर्रिकर का पार्थिव शरीर जनता के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था, उस स्थान का कराया
कवथनकर की यह टिप्पणी गोवा कला एवं संस्कृति मंत्री गोविंद गौड़े द्वारा सरकारी कला अकादमी के कर्मचारियों द्वारा हिंदू पुजारियों से कथित तौर पर शनिवार को शुद्धिकरण समारोह कराए जाने के बाद इसकी जांच के आदेश देने के बाद आई है। यह शुद्धिकरण 18 मार्च को जहां मनोहर पर्रिकर का पार्थिव शरीर जनता के अंतिम दर्शन के लिए रखा गया था, उस स्थान का कराया गया।
पर्रिकर का पैंक्रियाटिक कैंसर की बीमारी से 17 मार्च को हुआ था निधन
इस समारोह का एक वीडियो व तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद गौड़े ने कहा, “मैंने आज कला अकादमी परिसर में अनुष्ठान की कुछ गतिविधियों को लेकर सख्त रुख अपनाया है। मैंने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं। हम सरकारी इमारतों के अंदर अवैज्ञानिक गतिविधियों को बढ़ावा या संरक्षण नहीं दे सकते।
इस घटना से सरकारी कार्यालयों में नियमित तौर पर धार्मिक अनुष्ठानों व प्रथाओं का पिटारा खुलने की संभावना
कवथनकर ने कहा कि इस घटना से सरकारी कार्यालयों में नियमित तौर पर धार्मिक अनुष्ठानों व प्रथाओं का पिटारा खुलने की संभावना है। राज्य के पुलिस थानों व सरकारी कार्यालयों में भगवान गणेश की प्रतिमा लगाने या क्रिसमस के दौरान यीशु मसीह के जन्म के दृश्यों का चित्रण गोवा में आम है। कवथनकर ने कहा कि सरकार को राज्य समर्थित धार्मिक प्रथाओं के मुद्दे से निपटने के लिए व्यापक नीति लानी चाहिए।

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button