गैंगरेप पीड़िता को ही दोषी ठहराने पर पाकिस्तान में मचा बवाल

जुबिली न्यूज डेस्क
पाकिस्तान के लाहौर में एक गैंगरेप पीड़िता को ही बलात्कार के लिए दोषी ठहरा दिया गया है। जिसके बाद से लाहौर पुलिस के मुखिया के खिलाफ जनता सड़क पर उतर आई है।
पुलिस के मुखिया ने उस महिला के रात को बिना किसी मर्द को साथ लिए गाड़ी चलाने को गलत ठहराया था। पुलिस के इस रवैये के खिलाफ लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार को पुलिस मुखिया की टिप्पणियों के खिलाफ पाकिस्तान के कई शहरों में प्रदर्शन हुआ।
यह भी पढ़ें : समाज के लिए जीने वाले एक सन्यासी का जाना
यह भी पढ़ें : किसानों का मोदी सरकार के 3 अध्यादेश के खिलाफ हल्लाबोल
यह भी पढ़ें : सिर्फ सूखा ही नहीं है किसानों की आत्महत्या करने की वजह

Loading...

 
पुलिस के मुताबिक यह घटना बुधवार देर रात शहर के बाहर एक सुरक्षित माने जाने वाले राज्यमार्ग पर हुई थी। महिला गाड़ी में अपने दो बच्चों के साथ कहीं जा रही थी तभी रात डेढ़ बजे के आसपास रास्ते में ही गाड़ी में पेट्रोल खत्म हो गया।
महिला ने अपने एक रिश्तेदार को फोन किया और फिर राज्यमार्ग पुलिस की एक हेल्पलाइन पर भी फोन किया, लेकिन इससे पहलेकि उसे कोई मदद मिल पाती, दो व्यक्ति आए, गाड़ी का शीशा तोड़ा और महिला और दोनों बच्चों को घसीट कर राज्यमार्ग से सटे खेतों में ले गए। दरिंदों ने बच्चों के सामने ही महिला के साथ सामूहिक बलात्कार किया, फिर उसके पैसे और गहने लूट कर वहां से फरार हो गए। इस मामले में पुलिस ने 15 लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया है।
लाहौर पुलिस के मुखिया उमर शेख के खिलाफ आक्रोश तब शुरू हुआ जब उन्होंने कहा कि महिला को आधी रात को बिना किसी मर्द को साथ लिए बच्चों के साथ गाड़ी में पेट्रोल चेक किए यात्रा नहीं करनी चाहिए थी। साथ में उन्होंने यह टिप्पणी भी की थी कि पाकिस्तानी समाज में कोई भी “अपनी बेटियों और बहनों को इतनी देर रात अकेले सफर नहीं करने देगा।” शेख ने यह भी कहा कि महिला को दूसरा रास्ता लेना चाहिए था।
यह भी पढ़ें : EDITORs TALK : कंगना – मोहरा या वजीर ?
यह भी पढ़ें :  सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश नहीं रहे
यह भी पढ़ें :  बीजेपी अध्यक्ष का दावा, कहा-खत्म हो गया है कोरोना

लाहौर पुलिस के मुखिया के खिलाफ मानवाधिकार कार्यकर्ताओं ने भी कमर कस लिया है। कार्यकर्ता सरकार से शेख को बर्खास्त करने की मांग किए हैं।
 
वहीं महिला वकीलों और कार्यकर्ताओं के एक समूह वीमेन इन लॉ इनिशिएटिव ने घटना की निंदा करते हुए एक बयान में कहा, “सार्वजनिक स्थलों पर जाने का अधिकार और सुरक्षित तरीके से आवाजाही पाकिस्तान के हर नागरिक का मूल अधिकार है, और इसमें महिलायें भी शामिल हैं।
मानवाधिकार मंत्री शिरीन मजारी ने ट्विट्टर पर लिखा है कि शेख का बयान “अस्वीकार्य” है और “बलात्कार के अपराध को किसी भी तरह से सही नहीं ठहराया जा सकता है। ”
यह भी पढ़ें : कंगना को इशारों में शिवसेना की नसीहत, कहा-पानी में रहकर मगरमच्छ से बैर…
यह भी पढ़ें : बॉलीवुड से आई एक और बुरी खबर, अब…

प्रधानमंत्री इमरान खान ने ट्विट्टर पर जारी एक बयान में कहा कि वो मामले पर करीब से नजर बनाए हुए हैं और उन्होंने पुलिस को “घटना में शामिल लोगों को जितनी जल्दी हो सके गिरफ्तार कर सजा दिलवाने” के आदेश दिए हैं।
इमरान ने यह भी कहा कि उनकी सरकार महिलाओं और बच्चों के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों मुकाबला करने वाले कानूनों को और मजबूत करेगी। फरवरी में ही देश के सांसदों ने बच्चों के खिलाफ यौन अपराध और हत्या जैसे अपराधों के दोषी पाए जाने वालों को सार्वजनिक रूप से फांसी पर लटका देने वाला एक कानून पास किया था। हालांकि सरकार ने उसका विरोध किया और वह कानून बन नहीं पाया।
वकील और महिला अधिकार एक्टिविस्ट खदीजा सिद्दीकी ने कहा कि पुलिस मुखिया शेख का बयान पाकिस्तान में पीडि़ता को ही दोषी ठहराने की दुर्भाग्यपूर्ण लेकिन “काफी तेजी से फैल रही” संस्कृति का हिस्सा है।

loading...
News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Loading...