विडियो: क्‍यों? उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं में घटती जाती है सेक्‍स की द‍िलचस्‍पी…जानें सच

- in 18+

रजोनिवृत्ति किसी महिला के जीवन का वह समय होता है जब उनके अंडाशय की गतिविधियां समाप्त हो जाती हैं। यदि एक साल तक माहवारी की प्रक्रिया न हो तो ऐसा माना जाता है कि महिला रजोनिवृत्ति की स्थिति में है। बढ़ती उम्र के साथ जब महिलाएं रजोनिवृत्ति की अवस्था से गुजरती हैं तो उनमें शारीरिक संबंध बनाने को लेकर अरूचि की समस्या सामने आती है। हाल ही में एक शोध में इस बात को प्रमाणित भी किया गया है। नॉर्थ अमेरिकन मेनोपॉज सोसाइटी के वार्षिक सम्मेलन में पोर्टलैंड के कैसर पर्मानेंट सेंटर ऑफ हेल्थ रिसर्च के डॉ. एमांडा क्लार्क ने इस संबंध में एक शोधपत्र प्रस्तुत किया है।विडियो: क्‍यों? उम्र बढ़ने के साथ महिलाओं में घटती जाती है सेक्‍स की द‍िलचस्‍पी...जानें सच

शोधपत्र में रजोनिवृत्त महिलाओं में जोनिटोयूरीनरी सिंड्रोम (जीसीएम) के प्रसार का परीक्षण किया गया है। साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की गई है कि कैसे यह रजोनिवृत्त महिलाओं के शारीरिक संबंध बनाने की इच्छाओं को भी प्रभावित करता है। जीएसएम महिलाओं के रजोनिवृत्ति या रजोनिवृत्ति के बाद योनि तथा मूत्र क्षेत्रों की समस्याओं से संबंधित बीमारी है। इस अध्ययन में डॉ. क्लार्क ने तकरीबन तीन महीने तक अपनी टीम के साथ 55 साल और उससे अधिक की उम्र की 1500 से ज्यादा महिलाओं पर सर्वे किया था।इन महिलाओं में से लगभग आधी ने पिछले 6 महीने से किसी भी तरह की सेक्शुअल एक्टिविटी से इनकार किया है। सर्वे में महिलाओं से उनके मूत्र तथा यौन लक्षणों से संबंधित पूछताछ की गई थी।

सर्वे में महिलाओं ने शारीरिक संबंधों को लेकर सक्रियता में कमी के अलग-अलग कारण बताए हैं। 47 प्रतिशत महिलाओं ने पार्टनर की अरूचि, शारीरिक अक्षमता तथा मेडिकल कारणों को सेक्शुअल एक्टिविटी में कमी का जिम्मेदार ठहराया। 7 प्रतिशत महिलाओं ने ब्लैडर लीक, अर्जेंसी और बार-बार पेशाब आने की समस्या को इसकी वजह बताया है वहीं 26 प्रतिशत महिलाओं ने योनि के शुष्क हो जाने, चिड़चिड़ापन और दर्द को सेक्सुअल इनएक्टिविटी का कारण बताया है।

ये भी पढ़े: PICS: एक्ट्रेस ‘शमा सिकंदर’ पहुंचीं दुबई, शेयर कीं ये हॉट बिकिनी फोटोज, देखे मचल उठेगा आपका भी दिल

इसके अलावा तकरीबन 24 प्रतिशत महिलाएं ऐसी थीं जिन्होंने इसका कारण दाईस्पेरेनिया बताया है। दाईस्पेरेनिया सेक्स के दौरान महिलाओं को होने वाले दर्द को कहा जाता है। रजोनिवृत्ति के बाद सेक्शुअली एक्टिव महिलाओं ने भी दर्द और असहजता की शिकायत के बारे में बताया है। तकरीबन 45 प्रतिशत महिलाओं ने अक्सर शारीरिक संबंधों के दौरान दर्द की बात को स्वीकार किया है जबकि 7 प्रतिशत महिलाओं ने सेक्स दौरान यूरीन लीकेज की भी शिकायत की है।

ये भी पढ़े: अगर आपको भी बढ़ाना हैं स्पर्म, तो जरुर खाएं ये फूड्स

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

पार्टनर को लाना है करीब तो अपनाएं ये आसान टिप्स

रिश्ते बहुत नाजुक होते हैं। कई बार हम