क्रिकेट के ‘भगवान’ पर भी लगा था ये आरोप, जानिए पहले कब-कब हुई बॉल टैंपरिंग

- in खेल

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीसरे टेस्ट में गेंद से छेड़छाड़ करने को लेकर ऑस्ट्रेलियाई टीम को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। गेंद से छेड़छाड़ के बाद ऑस्ट्रेलियाई टीम ने इज्जत गवांने के बाद रविवार को मैच भी गंवा दिया। यह पहली दफ़ा नहीं है जब गेंद से छेड़छाड़ हुई है और क्रिकेट कलंकित हुआ है। इससे पहले क्रिकेट का भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंडुलकर पर भी गेंद से छेड़छाड़ के आरोप लग चुके हैं।

आइए बताते हैं पूरा मामला…

बात 2001 की है जब भारतीय टीम अफ्रीकी दौरे पर गई थी। पोर्ट एलिजाबेथ में दूसरे टेस्ट के तीसरे दिन सचिन ने मध्यम गति से चार ओवर फेंके। सचिन के इस स्पेल में विरोधी टीम को लगा कि गेंद को एक्सट्रा स्विंग मिल रही है। कैमरा जूम कर देखा गया।तो पता चला कि वह गेंद की सीम को कुछ अलग तरह से रगड़ रहे थे। 

मैच रैफरी माइक डेनिस  ने इस मसले को संज्ञान में लिया और इसे मैच टैंपरिंग करार दिया।जिसके बाद सचिन को एक मैच के लिए बैन किया गया। सचिन के साथ कप्तान सौरव गांगुली समेत पांच खिलाड़ियों को एक मैच के लिए निष्कासित कर दिया गया।

इस मामले को लेकर विवाद इतना बढ़ा कि माइक डेनिस पर नस्लवाद के आरोप लगे और इस विवाद को लेकर खेल जगत दो हिस्सों में बंट गया।

टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका के दौरे के बहिष्कार की धमकी दी और इस सीरीज का तीसरा टेस्ट ‘आनाधिकारिक’ टेस्ट के तौर पर खेला गया।

#IPL डेविड वॉर्नर पर ऑस्ट्रेलिया के फैसले के इंतजार में सनराइजर्स हैदराबाद

सचिन के अलावा इन लोगों पर भी लगे बॉल टैंपरिंग के आरोप

 साल 2006 में दिलचस्प वाकया सामने आया पाकिस्तान पर इंग्लैंड में टेस्ट के दौरान गेंद से छेड़छाड़ के आरोप लगे, तो दिन के आखिरी सत्र में टीम मैदान पर खेलने नहीं उतरी, जिसके बाद अंपायरों ने इंग्लैंड को विजेता घोषित कर दिया।

जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड

दक्षिण अफ्रीका दौरे पर आई इंग्लैंड से एक टेस्ट मैच के दौरान जेम्स एंडरसन और स्टुअर्ट ब्रॉड को गेंद को स्पाइक जूतों से मसलते हुए पकड़ा गया। बाद में ब्रॉड ने सफाई में कहा कि यह मजाकिया तौर पर किया गया था। दोनों गेंदबाजों पर आरोप साबित नहीं हुए थे। यह मामला 2010 का था।

शाहिद आफरीदी

साल 2010 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एक टी-20 मुकाबले में पाकिस्तान के कप्तान शाहिद आफरीदी को गेंद को घिसने का आरोप लगा था। आफरीदी ने मामले को लेकर  कहा कि वह गेंद को केवल सूंघ रहे थे हालांकि बाद में वह दोषी पाए गए। 

You may also like

लखनऊ की निशा ने जीता महिला 5000 मीटर दौड़ का स्वर्ण

52वीं यूपी स्टेट जूनियर ( अंडर-20 पुरूष व