क्यों चर्चा में हैं ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक

न्यूज डेस्क
कोरोना जैसी आकस्मिक आपदा से जहां पूरी दुनिया परेशान हैं वहीं ब्रिटेन के वित्त मंत्री अपने एक फैसले की वजह से पूरी दुनिया में चर्चा में हैं। कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए वित्तीय संकट से निपटने के लिए अपनी सरकार की नई योजना को पेश करते वित्त मंत्री ने कहा कि- “हमने कहा था कि हम अपने लोगों के साथ खड़े रहेंगे और हम अपनी बात पर पक्के थे। आप अकेले नहीं हैं।”
उन्होंने कहा, “मैं जानता हूं कि लोग अपनी नौकरियां खोने को लेकर डरे हैं। वे चिंतित हैं कि अपना किराया या किश्त नहीं दे पाएंगे। खाने और अन्य बिल भरने के लिए पैसों की कमी को लेकर परेशान है। मैं जानता हूं कि पिछले कुछ दिनों से लोगों की नौकरियां भी चली गई हैं। आप अकेले इसका सामना नहीं करेंगे। इस दौर से गुजरना है तो पूरे देश को मिलकर प्रयास करने होंगे।”
ब्रिटेन के वित्त मंत्री ऋषि सुनक की योजना और उनका बयान लोगों को इतना अच्छा लगा कि सोशल मीडिया पर वह ट्रेंड करने लगे। घोषणा के कुछ ही देर बाद बाद सोशल मीडिया पर Rishi Sunak और #RishiforPM जैसे हैश टैग ट्रेंड करने लगे।
बहुत से लोग ट्वीट करके कहने लगे कि सुनक को अगला प्रधानमंत्री होना चाहिए। इनमें से लोग ऐसे भी थे जो ख़ुद को विपक्षी लेबर पार्टी का समर्थक बता रहे थे।
ऋषि सुनक का क्या है भारतीय कनेक्शन
39 वर्षीय ऋषि सुनक राजनीति में आने से पहले वह गोल्डमैन सैश में बैंकर के रूप में काम कर रहे थे। ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन अपने मंत्रिमंडल में एक ऐसे वित्तमंत्री को चाहते थे जो विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी इकोनॉमी के लिए इंफ्रास्ट्रक्चर, सुरक्षा, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर खर्च करे और इसमें बदलाव लेकर आए।
कंजर्वेटिव पार्टी के नेता ऋषि सुनक 2015 से यॉर्कशर के रिचमंड से सांसद हैं। उनके परिजन भारतीय मूल के थे और पूर्वी अफ्रीका से ब्रिटेन आए थे। सुनक की पत्नी अक्षता मूर्ति भारतीय सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस के सह संस्थापक नारायण मूर्ति की बेटी हैं। वह इसी साल फरवरी में उस समय वित्त मंत्री बने थे जब साजिद जावेद ने अचानक इस्तीफा दिया था।
ये भी पढ़े : कोरोना वायरस LIVE : संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 520

वित्त मंत्री सुनक ने क्या घोषणा की
ब्रिटेन में कोरोना वायरस के कारण हालात ऐसे हो गए हैं कि अधिकांश कंपनियों को अपने कर्मचारियों से घर से काम करने के लिए कहना पड़ा है। कुछ कंपनियों का यहां तक कहना था कि वे वित्तीय दबाव का सामना कर रही हैं और उनके सामने कर्मचारियों को वेतन देने की चुनौती खड़ी हो गई है। इसकी वजह से ब्रिटेन में हजारों नौकरियों पर खतरा पैदा हो गया है। इस संकट को देखते हुए ब्रिटेन सरकार ने कुछ दिनों से लगातार नई योजना बनाने पर काम कर रही थी ताकि आर्थिक नुकसान को कम किया जा सके।
ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन के साथ 20 मार्च को ऋषि सामने आए और ऐलान किया कि सरकार ने उन कर्मचारियों का वेतन देने का फैसला किया है जो कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए हालात के कारण काम नहीं कर पा रहे। सरकार उन कर्मचारियों के वेतन का 80 फीसदी हिस्सा कंपनियों को देगी, जिन्हें नौकरी से नहीं निकाला जाएगा। इसके तहत करीब 2,500 पाउंड (2.20 लाख रुपये) प्रति माह तक का वेतन कवर किया जाएगा।
ये भी पढ़े :   अपने अनुभव से कोरोना को हरा देगा भारत ?

ब्रिटेन सरकार ने यह फैसला वित्तीय दबाव झेल रही कंपनियों द्वारा कर्मचारियों को नौकरी से न निकालने के चलते लिया है। इस योजना को पेश करते हुए वित्त मंत्री सुनक ने कहा कि इस तरह के कदमों से संकट की इस घड़ी में लोगों की नौकरियां बच सकेंगी।
इसके लिए कंपनियों को टैक्स विभाग से संपर्क करना होगा। वे उन कर्मचारियों के वेतन के लिए वित्तीय मदद ले सकेंगी जो कोरोना वायरस के चलते काम नहीं कर पा रहे हैं। इसके लिए कंपनियां 12 महीने का ब्याज मुक्त ऋण भी ले सकती हैं। कारोबारियों की मदद के लिए ऋ षि सुनक ने 35 करोड़ पाउंड के वित्तीय पैकेज का आकलन भी पेश किया।
ब्रिटेन के वित्त मंत्रालय ने बताया कि सरकार द्वारा यह छूट उन्हीं कंपनियों को दी जाएगी जिनमें कर्मचारियों को कोरोना वायरस के कारण वित्तीय संकट का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें यह रकम तभी मिलेगी जब ऐसे कर्मचारियों को वह दोबारा नौकरी पर रखेगी और नौकरी से निकाले जाने की अवधि को छुट्टी माना जाएगा।
ये भी पढ़े :  कोरोना संकट के मद्देनज़र वित्त मंत्री का बड़ा एलान
सोशल मीडिया पर मिली तारीफ
सोशल मीडिया पर जितनी चर्चा इस योजना की हो रही है, उतनी ही वित्त मंत्री सुनक के भाषण की भी हो रही है। सोशल मीडिया पर लोगों ने वित्त मंत्री की ओर से पेश योजना को काफी बेहतर बताया। हालांकि, कुछ लोगों का यह भी मानना था कि यह योजना लोकलुभावन है मगर इसका फायदा आम लोगों को नहीं होगा।
कुछ यूजर ने तो कहा कि ऋषि सुनक को प्रधानमंत्री होना चाहिए। ट्विटर पर एक यूजर स्टैन द गोल्डन बॉय ने लिखा है, “ऋ षि सुनक को ऐसी पॉलिसी की घोषणा करते देख रहा हूं जो सभी का फायदा तो नहीं करेगी मगर मेरा जरूर करेगी। हमारी राजनीतिक प्रतिबद्धता कुछ भी हो, मानना पड़ेगा कि यह काफी अच्छा कदम है। ”
वहीं दूसरे यूजर निक कोहेन नाम ने ट्विटर पर लिखा है, “शानदार ऋ षि सुनक। उन्होंने दिखाया कि वह सच्चे नेता हैं। जो न सिर्फ सही नीतियां बनाते हैं बल्कि सही शब्द भी चुनते हैं।”

Ujjawal Prabhat Android App Download Link

Fair play to Rishi Sunak. He showed he was a true leader, who doesn’t just find the right policies but finds the right wordshttps://t.co/EBB4MWKAoS
— Nick Cohen (@NickCohen4) March 21, 2020

स्टीव हेवुड नाम के शख्स ने भी ऋ षि सुनक के बोलने के अंदाज की तारीफ की। वह लिखते हैं, “वाह, ऋ षि सुनक कमाल हैं। क्या वक्ता हैं। उन्होंने अकेले ही मेरे अंदर सब चीजों को लेकर विश्वास भर दिया।”
ये भी पढ़े :  कोरोना संकट : अंबानी, अडानी क्यों हैं खामोश ?

News-Portal-Designing-Service-in-Lucknow-Allahabad-Kanpur-Ayodhya
Back to top button