Home > धर्म > क्या आप भी रखते हैं अपनी जेब में रूमाल तो जरूर पढ़ें ये खास  खबर 

क्या आप भी रखते हैं अपनी जेब में रूमाल तो जरूर पढ़ें ये खास  खबर 

हर इंसान की अपनी अलग आदत होती है, जिसमें कुछ आदत अच्छी होती है तो कुछ आदत बुरी। इनमें से एक आदत जेब में रूमाल रखकर घूमने की भी होती है। दअरसल बहुत से लोग जब घर से बाहर जाते हैं, तो वह अपने जेब में रूमाल रख लेते हैं। हालांकि देखा जाए तो यह सही भी है। लेकिन शास्त्र की दृष्टि से अगर बात करें, तो आमतौर पर हम जब अपनी जेब में रूमाल रखते हैं, तो ऐसी बहुत सी गलतियां कर बैठते हैं, जिनका हरजाना हमें अपने जीवन में उठाना पड़ता है। इस वजह से हम कई तरह की परेशानी का भी सामना करते है। आज हम आपसे कुछ इसी सिलसिले पर चर्चा करने वाले हैं यहां पर हम जानेंगे, कि जेब में रूमाल रखते वक्त हमें किस बात पर ध्यान देना चाहिए?क्या आप भी रखते हैं अपनी जेब में रूमाल तो जरूर पढ़ें ये खास  खबर 

ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक 4 अंक लक्ष्मी का नंबर माना जाता है। इसके साथ 6 नंबर शुभता का प्रतीक माना जाता है। इसलिए रुमाल को जेब में रखते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि रुमाल की केवल 4 या 6 तह ही बनें। इसके अलावा रुमाल को जेब में 3 या 5 बार फोल्ड कर के रखना अशुभ माना जाता है। कभी भी जेब में रुमाल विषम संख्या में मोडकर नहीं रखना चाहिए। ऐसा करना दुर्भाग्य को जन्म देता है। सम संख्या में रुमाल मोडकर रखने से आप घर से जिस काम के लिए निकलते हैं वह आसानी से पूरा हो सकता है। इसलिए हमेशा सम संख्या में रुमाल फोल्ड कर जेब में रखना चाहिए।

वास्तुशास्त्र के मुताबिक कभी भी गंदा रुमाल नहीं रखना चाहिए। इससे नेगेटिव एनर्जी बढ़ती है और हमारे विचारों में नकारात्मकता आती है। जिससे हम कोई भी काम करते हैं उसमें असफलता मिलती है। जिस जेब में रुमाल रखते हैं उसमें कोई अन्य सामान नहीं रखना चाहिए। वास्तु शास्त्र के मुताबिक हमेशा लाइट कलर्स का रुमाल रखना चाहिए। डार्क कलर्स के रुमाल रखने से आदमी के बनते काम बिगड़ने लगते हैं।

Loading...

Check Also

कार्तिक के इस महीने में ये पौधा लगाना होता है सबसे शुभ, देता है अपार धन

कार्तिक के इस महीने में ये पौधा लगाना होता है सबसे शुभ, देता है अपार धन

हिंदु धर्म में तुलसी काे सबसे पवित्र पाैधा माना गया है। वास्तव में यही एक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com