कैप्टन ने शहीद-ए-आजम के गांव में किया यादगारी म्यूजियम का उद्घाटन

- in पंजाब, राज्य

नवांशहर। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शहीद भगत सिंह के पैतृक गांव खटकड़कलां में नशे के खिलाफ जंग का एेलान किया। उन्होंने यहां ड्रग अब्यूज प्रीवेंशन आफिसर( डेपो) लॉंच किया। इस दौरान उन्होंने यहां मौजूद बच्चों, अफसरों व लोगों को नशे से दूर रहने की शपथ दिलाई।

कैप्टन ने कहा कि युवा तभी सशक्त होगा, जब वह नशे का त्याग करेगा। कहा कि उनका सरकार नशा तस्करों के खिलाफ मुहिम छेड़े हुए है। नशे में शामिल लोगों को कतई बख्शा नहीं जाएगा। वहीं, सीएम ने खटकड़कलां में शहीद भगत सिंह यादगारी म्यूजियम का भी उद्घाटन किया

म्यूजियम के विस्तार प्रोजेक्ट का नींवपत्थर 2009 में तत्कालीन वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने रखा था। तब प्रोजेक्ट की अनुमानित लागत 16 करोड़ 81 लाख रुपये रखी गई थी। प्रोजेक्ट करीब 2 सालों में पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था, मगर प्रोजेक्ट पहले दिन से ही फंडों के अभाव की वजह से देरी से शुरू हो पाया। पहले जमीन एक्वॉयर की गई, जिसके बाद इमारत तैयार की गई। यह काम भी रुक रुक कर चला। लाईटें लगीं तो काम फंडों के अभाव की वजह से लटक गया, समय बीतने के चलते मैटीरियल की कीमतों में भी बढ़ोतरी हो गई।

लगातार सालों से काम लटकते आने के मामले को दैनिक जागरण द्वारा सितंबर 2017 में शहीद के जन्म दिवस के अवसर पर प्रमुखता से उठाया। जिसके चलते पुरात्तव विभाग के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की तरफ से अक्टूबर महीने की शुरूआत में खटकड़कलां में दौरा कर के न केवल अपने निजी खाते से शहीद के घर के सामने बने पार्क का बिजली का बिल करीब ढ़ाई लाख रुपये अपने खाते से जमा करवाया गया था बल्कि मीडिया के समक्ष एलान किया था कि 23 मार्च को म्यूजियम का उद्घाटन हर हाल में किया जाएगा।

आधुनिक तकनीक व भवन कला की इस ऐतिहासिक यादगार का मुख्य प्रवेश द्वारा मुख्य सड़क के बजाय गांव खटकड़कलां के गेट के साथ बनाया गया है। यहां से प्रवेश करने के साथ ही पार्किंग, उसके बाद हरी घास, सामने शहीद भगत सिंह का बुत नजर आएगा। बुत के ठीक पीछ म्यूजियम की इमारत जिसमें प्रवेश करते ही स्वागती केंद्र व म्यूजियम की गलियों व अन्य स्थानों का नक्शा व माडल होगा।

यहां म्यूजियम में 20वीं सदी के शुरुआती दौर के पंजाब, पंजाब टाइमलाइन गैलरी, जिसमें जलियांवाला बाग का कत्लेआम, कूका लहर दो कारौन तोपों के आगे खड़े होकर देश प्रेम का सुबूत देने वाले बहादुर नामधारी आदि को दर्शाया गया है। जिसके बाद शहीद भगत सिंह के जन्म, परिवार का ब्यौरा, बचपन, नेशनल कॉलेज लाहौर, सांडरस की मौत, लाहौर रेलवे स्टेशन का माडल आकर्षण का केंद्र होगा।

सरकार के खिलाफ बरसे सुखबीर

शिअद की रैली में पहुंचे सुखबीर बादल।

म्यूजियम के ठीक सामने आदर्श स्कूल रोड के पास शिअद ने पंजाब सरकार के खिलाफ पोल खोल रैली की। इस दौरान पूर्व डिप्टी सीएम व अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल सरकार के खिलाफ जमकर बरसे। कहा कि कैप्टन सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है।

फिरोजपुर में शहीदों को श्रद्धांजलि देते मनप्रीत बादल।

उधर, शहीदी दिवस के मौके पर कैबिनेट मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ने फिरोजपुर में शहीद-ए-आजम भगत सिंह, राजगुरू व सुखदेव को अर्पित की श्रद्धांजलि की। इस दौरान मनप्रीत ने 24 मार्च को पेश किए जाने वाले बजट पर भी चर्चा की। कहा कि बजट सभी वर्गाे को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। बजट सबको राहत देने वाला होगा।

 

You may also like

जानलेवा बारिश ने पंजाब में ढाया कहर, अब तक 10 लोगों की हुई मौत, कई एकड़ फसल जलमग्न

पिछले तीन दिन से लगातार हो रही बारिश