कैंसर भी नहीं रोक सका तुषार की राह, हासिल किए 95% अंक

- in करियर
कहते हैं कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती है। इसे चरितार्थ किया है रांची के होनहार तुषार ऋषि ने। उसकी राह कैंसर भी नहीं रोक सकी। उसने सीबीएसई 12वीं की परीक्षा में 95 प्रतिशत अंक अर्जित किए हैं।
कैंसर भी नहीं रोक सका तुषार की राह, हासिल किए 95% अंक
तुषार ने इतने अच्छे मार्क्स तब अर्जित किए हैं जब उन्हें हर तीन महीने पर इलाज के लिए एम्स दिल्ली जाना पड़ता है। उन्होंने अपनी पढ़ाई के दौरान कोई अतिरिक्त कोचिंग भी नहीं ली। उन्हें अंग्रेजी व फिजिक्स में 95, मैथ में 93, कम्प्यूर में 89 और फाइन आर्ट्स में पूरे 100 नंबर मिले हैं। दिल्ली पब्लिक स्कूल के इस छात्र ने बताया कि वह इलाज के बाद से काफी राहत महसूस कर रहे हैं। 

ये भी पढ़े: CBSE 12वीं के रिजल्ट के बाद तेजी से बढ़ी डीयू में एडमिशन की प्रक्रिया

2014 में चला कैंसर का पता
तुषार ने बताया कि 2014 में उसके बाएं घुटने में कैंसर का पता चला। इसके चलते वह उस साल 10वीं की परीक्षा नहीं दे सका। पूरे 11 महीने तक कीमोथेरेपी के दौर से गुजरना पड़ा। इसके बावजूद उसने हार नहीं मानी। 2015 में तुषार ने 10वीं की परीक्षा अच्छे नंबरों से पास की।

तुषार का अगला लक्ष्य दिल्ली विश्वविद्यालय से अंग्रेजी या इकोनॉमिक्स से स्नातक करना है। उसने अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दिया, जिन्होंने कठिन समय में उसके उत्साह को बनाए रखा। मां रितु अग्रवाल बिरला इंस्टीट्यूट ऑफ टेकभनोलॉजी में प्रोफेसर हैं, जबकि पिता शशि भूषण झारखंड कृषि विभाग में काम करते हैं।

You may also like

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में कोच पद पर भर्ती, आवेदन के लिए 4 दिन शेष

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान रोपड़ को पार्ट टाइम स्पोर्ट्स कोच