कुछ खास है बुल्गेरिया में कुंवारे लड़को के लिए

दुनिया का हर देश किसी ना किसी खास चीज के लिए फेमस होता है। लेकिन दक्षिण पूर्व यूरोप में एक देश कुवांरे लड़को के लिए दुनिया में सबसे बेहतर है। इसका एक खास कारण है। ऐसा हम इसलिए कह रहें है क्योंकि इस देश में एक ऐसा बाजार लगता है जहां पर दुल्हन बिकती है। जी हां, सुनने में यह जरुर अटपटा लगे लेकिन यहां पर हर कोई अपने पसंद की दुल्हन से शादी कर उसे अपनी पत्नी बना सकता है।
दक्षिण पूर्व यूरोप के देश बुल्गारिया को वैसे अपने पर्यटन स्थल के लिए प्रसिद्ध है। लेकिन यह देश एक और चीज के लिए फेमस है। बुल्गारिया में स्टारा जागोर नाम की जगह पर सजता है दुल्हनों का बाजार। यह बाजार हर तीन साल बाद लगाया जाता हैं यहां पर आकर दूल्हा अपनी पंसद की दुल्हन को खरीदकर उसे अपनी पत्नी बना सकता है। यह मेला ऐसे गरीब परिवारों द्वारा लगाया जाता है, जिनकी आर्थिक हालात ठीक नहीं होते और वे अपने बेटी की शादी का खर्च नहीं उठा सकें। बता दे कि, यह मेला बुल्गारिया के कलाइदझी समुदाय द्वारा लगाया जाता है।

Loading...

यह है बाजार के नियम

what is so interesting in bulgaria for unmarried boy,bulgaria,europe,bride market

यह बाजार कलाइदझी समुदाय द्वारा लगाया जाता है। इस बाजार की खूबी है कि केवल इस समुदाय के अलावा कोई बाहरी व्यक्ति दुल्हन नहीं खरीद सकता है। इस बाजार में कोई भी दुल्हन अकेले नहीं आतीं है। उनके साथ परिवार का कोई न कोई सदस्य जरूर होता है। बिकने वाली दुल्हनों में लगभग हर उम्र की लड़कियां-महिलाएं शामिल होती हैं। बाजार में वही परिवार होते हैं, जो अपनी लड़कियों की शादी करने के लिए आर्थिक रूप से कमजोर हैं। वहीं आमतौर पर लड़के वाले दहेज लेते हैं, लेकिन यहां रिवाज उल्टा है। यहां लड़के वालों को लड़की के परिवार को पैसे देने पड़ते हैं

कर सकते है मोल-भाव

what is so interesting in bulgaria for unmarried boy,bulgaria,europe,bride market

जी हां इस बाजार में आना वाला दूल्हा पहले अपनी मनपंसद लड़की चुन सकता है और फिर लड़की से बात करने का मौका भी दिया जाता है। दूल्हन पसंद आने पर उसे अपनी पत्नी स्वीकार करना होता है।फिर लड़की के परिवार के साथ मोल-भाव करने के बाद लड़के का परिवार लड़की वालों को तय रकम देता हैं। इस नियम का पालन सख्ती से होता है। बहरहाल, दूल्हन खरीदनें का यह चलन कई सालों से चला आ रहा है और इस पर कोई कानूनी रोक भी नहीं है

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *