करीबियों पर छापे से बिफरे BJP विधायक, दिया बेतुका बयान…

यूपी के कौशांबी में चायल सीट से बीजेपी विधायक संजय गुप्ता का एक ऑडियो टेप सामने आया है जिसमें वे कथित तौर पर कहते सुनाई दे रहे हैं कि 90 फीसदी बिजली की चोरी मुसलमान करते हैं. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस ऑडियो में संजय गुप्ता बिजली विभाग के अधिकारियों को कथित तौर पर धमकी देते भी सुने जा सकते हैं. ऑडियो को सुनने से लगता है कि अपने गृह क्षेत्र भरवारी में कुछ करीबियों के खिलाफ बिजली अधिकारियों की कार्रवाई को लेकर वो नाराज थे और अधिशासी अभियंता अविनाश सिंह को फोन पर ही जमकर हड़काना शुरू कर दिया.करीबियों पर छापे से बिफरे BJP विधायक, दिया बेतुका बयान...

ऑडियो के शुरू में अधिशासी अभियंता अविनाश की आवाज सुनाई देती है. जिसमें वो कहते हैं- ‘डॉ. ओम प्रकाश के अस्पताल के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लिया है उसका बस मीटर बदलवा दिया गया है.’ फिर विधायक गुप्ता पूछते हैं कि एफआईआर किसके खिलाफ हुई है, इस पर अविनाश की ओर से कहा जाता है कि नरेंद्र कुमार के खिलाफ एफआईआर हुई है. फिर विधायक पूछते हैं कि नरेंद्र कुमार कौन है? अविनाश जवाब देते हैं कि वो डॉ ओमप्रकाश के भाई हैं और जो वो मीटर इस्तेमाल कर रहे थे, उसमें केबल नहीं जुड़ा था, वे डायरेक्ट इस्तेमाल कर रहे थे.

ऑडियो में विधायक फिर अधिशासी अभियंता को हड़काते हुए कहते हैं कि राजस्व बढ़ाने के लिए सिर्फ सुधारात्मक कार्रवाई की जाए, दमनात्मक नहीं. फिर बिजली विभाग और इसके अधिकारियों के लिए अभद्र शब्द का इस्तेमाल करते हुए अंजाम भुगतने की धमकी भी देते हैं.

ऑडियो में विधायक को अभियंता से ये कहते भी सुना जा सकता है, “कभी मुस्लिम बस्ती में गए हैं, पहले मुस्लिम बस्ती मे जाइए अभी से, 90 फीसदी बिजली वे चोरी करते हैं. पहले जाकर चेक कीजिए.”

विधायक का गुस्सा यही शांत नहीं होता. वे ऑडियो में कहते सुनाई देते हैं कि ‘केवल हिन्दुओं को प्रताड़ित किया जा रहा है, मैं इस पर लखनऊ जाकर बात करूंगा.’ विधायक ने इंजीनियर से ये भी कहा कि समुदाय विशेष के लोगों के खिलाफ कितनी एफआईआर दर्ज करवाई गईं, उसका पूरा डेटा उन्हें तत्काल उपलब्ध कराया जाए.

गुरुवार को संजय गुप्ता बिजली विभाग के दफ्तर के गेट पर डेटा लेने के लिए भी पहुंच गए तो बिजली कर्मचारी भी उनके खिलाफ लामबंद हो गए.

जिस वक्त का ये ऑडियो है, उसमें संजय गुप्ता खुद कहते सुनाई देते हैं कि वो रामेश्वरम से आए हुए हैं, और उन्हें क्षेत्र से लोगों के बिजली विभाग को लेकर बहुत फोन आ रहे हैं, जिससे उनकी यात्रा में भंग पड़ गया.

विधायक संजय गुप्ता से जब इस संबंध में संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि बिजली विभाग के अधिकारियों ने वसूली का धंधा बना लिया है. इस संदर्भ में उन्होंने बिजली विभाग के दो अभियंताओं- तारिक जमील और अविनाश सिंह का नाम लिया. संजय गुप्ता ने आरोप लगाया कि ये अधिकारी बिजली चोरी के खिलाफ कार्रवाई के नाम पर डील करते हैं, अगर पैसा मिल जाता है तो छोड़ दिया जाता है वरना एफआईआर दर्ज करा दी जाती है. संजय गुप्ता ने ये आरोप भी लगाया कि एक धर्म विशेष के लोगों से उन्हें पैसे मिल रहे हैं, इसलिए उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती.

बताया जा रहा है कि संजय गुप्ता ने धमकाते हुए कहा कि जिनके घरों की बिजली काटी गई है और जिनके ऊपर FIR कराई गई है, वहां बिजली बहाल की जाए, साथ ही एफआईआर भी वापस ली जाए. बता दें कि इन दिनों यूपी में अवैध बिजली के खिलाफ बिजली विभाग का अभियान चल रहा है. एक खास वक्त तक मोहलत देने के बाद योगी सरकार तमाम अवैध कनेक्शन को न सिर्फ काट रही है बल्कि जुर्माना भी वसूल रही है. FIR भी दर्ज हो रही हैं. सिर्फ हिंदुओं की नहीं बल्कि कई मुस्लिम बहुल इलाकों में भी ऐसे अभियान चलाए गए हैं. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में कई मुसलमानों के घर लगे अवैध बिजली के कनेक्शन और कटिया काटे गए हैं. कई जगह FIR भी दर्ज हुई हैं.

बहरहाल आपत्तिजनक वीडियो के सामने आने के बाद भी विधायक संजय गुप्ता को अपने कहे पर कोई पछतावा नहीं. उल्टे वह अपनी बात पर अड़े हैं कि बिजली विभाग के कुछ लोग सिर्फ हिन्दुओं को ही प्रताड़ित करते हैं जबकि एक समुदाय विशेष के लोगों पर कार्रवाई नहीं करते. विधायक के मुताबिक यही सोच उनके क्षेत्र के लोगों की है. विधायक ने आरोप लगाया कि उनका और सरकार की छवि खराब करने के लिए बिजली विभाग के ये इंजीनियर ऐसा कर रहे हैं.

विधायक संजय गुप्ता के आरोपों को अधिशासी अभियंता अविनाश सिंह ने खारिज किया. अविनाश ने खुद को विधायक की धमकी से आहत बताया और साथ ही इस क्षेत्र से तबादले की इच्छा भी जताई. उन्होंने कहा कि शासन के आदेश पर ही बिजली के अवैध कनेक्शन वालों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. ऐसे ही कुछ लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई तो विधायक से संपर्क कर दबाव डालने की कोशिश की जा रही है.

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के करीबी माने जाने वाले विधायक गुप्ता गुरुवार को बिजली विभाग के दफ्तर के गेट पर पहुंचकर वहां पर कार्रवाई का डेटा मांगने लगे तो दफ्तर में कोहराम मच गया. विधायक के बर्ताव और विभाग के अफसरों को दी गई धमकी के विरोध में बिजली विभाग के कर्मचारी धरने पर बैठकर नारेबाजी करने लगे. बिजली कर्मचारियों का कहना है कि उनके खिलाफ किसी तरह का एक्शन लिया गया तो वह सामूहिक अवकाश पर चले जाएंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

ग्रीटिंग कार्ड प्रतियोगिता का प्रथम पुरस्कार सीएमएस छात्रा को

लखनऊ। सिटी मोन्टेसरी स्कूल, अलीगंज (द्वितीय कैम्पस) की