कब चमकेगी आपकी किस्मत जानिए अपने जन्म के दिन से

रविवार से लेकर शनिवार तक सप्ताह के 7 दिन होते हैं। इन सात दिनों से स्वामी 7 ग्रह माने गए हैं। इस आधार पर यह भी आंकलन किया जाता है कि जिस व्यक्ति का जन्म जिस वार को हुआ है उस पर उन विशेष दिन के स्वामी ग्रह का प्रभाव होता है जो उनके रंग-रूप, काफी हद तक व्यवहार और भाग्य को भी प्रभावित करते हैं। तो आइए देखें अपने जन्म के वार के अनुसार आपकी किस्मत कब चमकेगी।कब चमकेगी आपकी किस्मत जानिए अपने जन्म के दिन से

Loading...

रविवारः

इसे हफ्ते का पहला दिन माना जाता है। अंकज्योतिष में इसे 1 अंक से संबंधित माना गया है जिसका स्वामी ग्रह सूर्य हैं जिन्हें ग्रहों का राजा कहा गया है। इस दिन जिन लोगों का जन्म होता है वह हठीले और शंकालु स्वभाव के होते हैं। बातों-बातों में रूठ जाना और मान जाना इनका विशेष गुण होता है। 22 से 24 वें वर्ष में इनकी किस्मत इन्हें कामयाबी का मौका देती है। यह इनके भाग्योदय का समय होता है।

सोमवारः

इस दिन जिन लोगों का जन्म होता है इन पर चन्द्रमा का प्रभाव होता है। अंकज्योतिष के अनुसार इन पर अंक 2 का प्रभाव होता है। ऐसे लोगों को वृद्धावस्था में फेफड़ों की परेशानी होने की आशंका अधिक रहती है। ऐसे लोग मृदुभाषी और शांत प्रकृति के होते हैं। इस दिन जन्म लोग अधिक कल्पनाशील और भावुक होते हैं। 21 से 22 वें साल में इन्हें भाग्य कामयाबी का मौका देता है।

मंगलवारः

हफ्ते का तीसरा दिन मंगलवार है। इसका स्वामी ग्रह मंगल माना गया है और अंकज्योतिष के अनुसार इन पर अंक 9 का प्रभाव होता है। इस दिन जिनका जन्म होता है वह बहुत ही साहसी होते हैं। यह जल्दी किसी पर विश्वास नहीं करते हैं और मंगल से संबंधित क्षेत्रों में काम करें तो खूब सफल होते हैं। 28 से 32 साल की उम्र के बीच यह काफी तरक्की करते हैं।

बुधवार

इस दिन जिन लोगों का जन्म होता है उन पर ग्रहों के राजकुमार बुध का प्रभाव होता है इसलिए ऐसे लोगो हंसी-मजाक पसंद करने वाले और बातों के धनी होते हैं। अंकज्योतिष के अनुसार इन पर अंक 5 का प्रभाव होता है। लेखन, व्यवसाय, वाणी से जुड़े क्षेत्रों में यह काफी सफल होते हैं। शारीरिक तौर पर इस दिन पैदा हुए लोग पतले-दुबले होते हैं। वृद्धावस्था में कई तरह के रोगों से प्रभावित हो सकते हैं। 32 वां वर्ष इनके लिए भाग्योदय कारक होता है।

गुरुवार

देवगुरु बृहस्पति के दिन बृहस्पतिवार को जिन लोगों का जन्म होता है वह धार्मिक प्रवृति के होते हैं। ऐसे लोगों के अंदर एक दार्शनिक का भाव होता है। ऐसे लोग हर बात को सोच-समझकर और गंभीरता से बोलते हैं। 16 से 22 और 40 वां वर्ष इनके लिए बहुत ही शुभ रहता है। इस दौरान यह काफी तरक्की करते हैं।

शुक्रवारः

शुक्र ग्रह से संबंधित इस वार में जिन लोगों का जन्म होता है वह आकर्षक व्यक्तित्व के स्वामी होते हैं। इस दिन पैदा हुए लोगों में श्रृंगार का विशेष शौक होता है। ऐसे लोग बात-चीत की कला में निपुण होते हैं और विपरीत लिंग के लोगों में काफी लोकप्रिय होते हैं। संगीत और दूसरी कलाओं में इनकी रुचि रहती है। अंकज्योतिष के अनुसार इन पर अंक 6 का प्रभाव रहता है। 18 वां और 24 वां वर्ष इनके लिए शुभ रहता है।

शनिवारः

weनवग्रहों में दंडनायक शनि ग्रह के दिन शनिवार को जिनका जन्म होता है उनके लिए 36 से 42 वर्ष तक का समय बेहद शुभ रहता है। इस दिन पैदा हुए लोग मेहनती और कर्मठ होते हैं। आमतौर पर यह अपनी आयु से अधिक दिखते हैं। अंकज्योतिष के अनुसार इन पर अंक 8 का प्रभाव होता है।

Loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *