कतर पर बैन लगाएगा अमेरिका, अपने सैन्य अड्डे को भी बंद कर देगा!

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका कतर पर बैन लगा सकता है, साथ ही अपने सैन्य अड्डों को बंद कर वो अपने सैनिकों को कतर से वापस बुला सकता है। अमेरिका का आरोप है कि कतर अमेरिका के साथी देशों के खिलाफ लड़ाई छेड़े हुए आतंकी गुटों को सैन्य और धन की मदद पहुंचा रहा है, अगर कतर ने आतंकियों की मदद बंद नहीं की तो वो कड़े कदम उठाएगा।
कतर पर बैन लगाएगा अमेरिका, अपने सैन्य अड्डे को भी बंद कर देगा!
कतर पर आतंकियों की फंडिंग रोकने के लिए अमेरिका नए सिरे से रणनीति भी बना रहा है। इसी कड़ी में कतर और पड़ोसी गल्फ देशों के राजनयिकों के बीच मुलाकात भी हुई। पर कतर इतनी जल्दी बाज आएगा, इसपर संदेह है।

ये भी पढ़े: बड़ी खुशखबरी! बिछाई जा रही है बीयर की पाइप लाइन, नल खोलो और जी भर के पियो

कतर को लेकर अमेरिकी कांग्रेस के सदस्य एड रॉयस और पूर्व रक्षा सचिव रॉबर्ट गेट्स ने कांफ्रेंस में बड़े बयान दिए। फॉउंडेशन फॉर डिफेंस ऑफ डेमोक्रेटिक्स द्वारा आयोजित कांफ्रेंस में दोनों ने कहा कि कतर मिश्र समेत आसपास के देशों के लिए खतरा बने मुस्लिम ब्रदरहुड को सरंक्षण दे रहा है। वो फिलिस्तीन के हमास ग्रुप को मदद देता है, जो इजरायल विरोधी काम करता है, साथ ही इजरायल के खिलाफ युद्ध जैसे हालात बनाकर रखता है। अमेरिका ऐसे ग्रुपों पर बैन लगाकर आतंकी गुट घोषित कर चुका है, पर कतर लगातार इनकी मदद करता रहा है। 

कतर पर हमास को पूरी तरह से समर्थन देने के आरोप

फॉरेन अफेयर्स कमेटी के चेयरमैन रह चुके एड रॉयस ने कतर पर हमास को पूरी तरह से समर्थन देने के आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि अब समय आ चुका है, जब हमास की मदद करने वालों के खिलाफ कड़े कदम उठाए जाएं। उन्होंने कहा कि अगर कतर ने अपनी कार्यशैली में बदलाव नहीं किया, तो वो स्वयं कांग्रेस की बैठक में हमास के समर्थक कतर पर बैन लगाने के लिए बिल लाएंगे। 

रॉयस यहीं नहीं रुके, उन्होंने तो ये भी कह दिया कि अमेरिका को अपने सैन्य अड्डे को बंद कर कतर से सैनिकों को वापस बुला लेना चाहिए। उन्होंने बताया कि कतर के अल-उदैद बेस को अमेरिका साल 2003 से ऑपरेट कर रहा है। वहीं, रॉबर्ट गेट्स ने कहा कि कतर हमास, तालिबान, अलकायदा जैसे ग्रुपों को आतंकी गतिविधियों के लिए धन की मदद करता है।

You may also like

राफेल डील पर फ्रांसीसी कंपनी ने दिया बड़ा बयान, कहा- सौदे के लिए रिलायंस को हमने चुना

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के बयान के बाद