ओपेन डे समारोह में छात्रों ने दिखाई बहुमुखी प्रतिभा

- in उत्तरप्रदेश, लखनऊ

लखनऊ : सिटी मोन्टेसरी स्कूल, राजेन्द्र नगर (द्वितीय कैम्पस) द्वारा ‘ओपेन डे समारोह’ का भव्य आयोजन आज बड़े ही उल्लासपूर्ण माहौल में विद्यालय प्रांगण में आयोजित हुआ। इस अवसर पर विद्यालय के छात्रों ने जहाँ एक ओर अपनी बहुमुखी प्रतिभा के माध्यम से अपने अभिभावकों का दिल जीत लिया तो वहीं स्वनिर्मित आर्ट एवं क्राफ्ट वस्तुओं की आकर्षक प्रदर्शनी में अपनी कलात्मक एवं सृजनात्मक प्रतिभा का अभूतपूव्र प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शनी में छात्रों ने स्वनिर्मित पेपर बाल फ्लावर, ग्रीटिंग कार्डस, हैप्पी फेसिस, परियॉ, रंग-बिरंगी गुड़ियॉ, पेन्सिल होल्डर, आटोग्राफ बुक, फेब्रिक पेन्टिग कलाकृतियों का उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। ओपेन डे समारोह’ पर दर्शकों एवं अभिभावकों द्वारा बच्चों से उनकी कलाकृतियों के बारे में पूछे जा रहे प्रश्नों का उत्तर बच्चों ने बड़े ही आत्मविश्वास एवं प्रभावशाली ढंग से दिया। कार्यक्रम का शुभारम्भ सर्वधर्म व विश्व शान्ति प्रार्थना से हुआ। इसके बाद विद्यालय के छात्रों ने रंगारंग शिक्षात्मक-साँस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर सभी का दिल जीत लिया।

इससे पहले, सी.एम.एस. के डायरेक्टर ऑफ स्टेªटजी रोशन गाँधी ने फीता काटकर ‘ओपेन डे समारोह’ का विधिवत शुभारम्भ किया। इस अवसर पर अपने संबोधन रोशन गाँधी ने कहा कि इस तरह के समारोह शिक्षण पद्धति को और अधिक रोचक एवं अभिनव बनाते हैै, साथ ही छात्रों में निहित प्रतिभा को उभारने में सहायक होते है। सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने इस अवसर पर कहा कि नैतिक, चारित्रिक व आध्यात्मिक शिक्षा का महत्व सर्वोपरि है क्योंकि आदर्श समाज की स्थापना का दारोमदार ‘टोटल क्वालिटी पर्सन’ के रूप में विकसित छात्रों की नई पीढ़ी पर ही है। इस दिशा में सी.एम.एस. ने अग्रणी कदम उठाया है और किताबी ज्ञान के साथ-साथ चारित्रिक व आध्यात्मिक शिक्षा प्रदान कर बच्चों को नैतिक बल प्रदान कर रहा है। इस अवसर पर सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (द्वितीय कैम्पस) की प्रधानाचार्या ज्योत्सना अतुल ने सभी छात्रों एवं शिक्षकों को अपनी हार्दिक शुभकामनायें देते हुए अतिथियों व अभिभावकों के प्रति हार्दिक आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may also like

‘नमोस्तुते माँ गोमती’ के जयघोष से गूंजा मनकामेश्वर उपवन घाट

विश्वकल्याण कामना के साथ की गई आदि माँ