एल्कॉन स्कूल की छात्रा ने खुदकुशी से पहले खोला था ये चौकाने वाला राज

- in दिल्ली, राज्य

नई दिल्ली। एल्कॉन पब्लिक स्कूल में गत शुक्रवार को नौवीं कक्षा का ऐसा परिणाम आया कि विद्यार्थियों के चेहरे के रंग उड़ गए। इनमें वह छात्रा भी शामिल थी, जिसने परिणाम आने के बाद नोएडा स्थित अपने घर में खुदकशी कर ली। दो विषयों में फेल होने की जानकारी मिलते ही वह फूट-फूटकर रोने लगी।

एल्कॉन स्कूल की छात्रा ने खुदकुशी से पहले खोला था ये चौकाने वाला राजस्कूल से घर आने से पहले अपने सबसे करीबी सहपाठी से कहा था कि वह फिजिक्स की परीक्षा तो पास कर लेगी, लेकिन राजनीति विज्ञान में शिक्षक उसे दोबारा फेल कर देंगे। यह बात सुनकर सहपाठी भी दंग रह गया था। नाम नहीं छापने की शर्त पर उसने बताया कि वह परीक्षा से पहले ही इन दोनों विषयों को लेकर डरी हुई थी।

उन विषयों के शिक्षकों ने छात्रा से कई बार कहा था कि वह उन्हें फेल कर देंगे। यह बात वह अपने घर पर नहीं बताना चाहती थी, लेकिन परीक्षा के दौरान उसने अभिभावकों के सामने भी इसका जिक्र किया था। वह नृत्य के साथ ही पढ़ाई में बहुत अच्छी थी। इसलिए यह सभी के लिए समझ से परे है कि वह फेल कैसे हो सकती है।

उसने यह भी स्पष्ट किया कि छात्रा जल्दी किसी को अपने मन की बात नहीं बताती थी, लेकिन वह इन विषयों को लेकर इतनी चिंतित हो गई थी कि परिणाम आने पर उसकी जुबां से यह बात निकल गई। बता दें कि स्कूल में राजनीतिक विज्ञान के शिक्षक राजेश सहगल हैं और उन पर परिजनों ने प्रताडऩा का आरोप लगाया है।

अच्छा नृत्य करती थी, फिर भी मिले थे कम नंबर

स्कूल के सहपाठियों को यह बात गले नहीं उतर रही है कि जिस छात्रा के पिता नृत्य के महारथी हों और छात्रा खुद भी अच्छा नृत्य करती थी तो उसे नृत्य में पांच में से सिर्फ दो नंबर कैसे मिल सकते हैं। इस बात को लेकर भी वह काफी परेशान रहती थी। अद्र्ध वार्षिक परीक्षा में छात्रा ने नृत्य प्रतियोगिता के चक्कर में अपनी एक परीक्षा तक छोड़ दी थी।

कुशल नृत्यांगना बनने की हसरत रह गई अधूरी

छात्रा के सहपाठियों ने बताया कि वह काफी खुशमिजाज थी और हर किसी से अच्छे से बात करती थी। हालांकि, वह अपनी निजी जिंदगी की बात जल्द किसी को नहीं बताती थी। वह अपने पिता से प्रेरित होकर मशहूर नृत्यांगना बनना चाहती थी।

You may also like

उत्तर प्रदेश सरकार चीनी मिलों को दिलवाएगी 4,000 करोड़ रुपये का सस्ता कर्ज

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य की चीनी मिलों